लालू से सीबीआइ की पूछताछ से जुड़ी 10 बड़ी बातें, राजद सुप्रीमो पर जिसका होगा असर,

0
215

बिहार के सबसे बड़े सियासी परिवार के मुखिया राजद सुप्रीमो लालू यादव पर सीबीआइ द्वारा की गयी पूछताछ का व्यापक असर पड़ने की संभावना जतायी जा रही है. बिहार के राजनीतिक हलकों में चर्चा है कि लालू को अंदेशा है कि वह कभी भी सजा के पात्र बन सकते हैं, इसलिए उन्होंने राबड़ी देवी को समझा बुझाकर पार्टी और आगामी चुनाव की रणनीति को तैयार करने की बात कही है. इसी वजह से हाल में राबड़ी देवी ने पार्टी नेताओं की आपात बैठक बुलायी. आइए जानते हैं, लालू से सीबीआइ द्वारा पूछताछ किये जाने के बाद वह कौन सी बड़ी बातें हैं, जो लालू पर असर डाल सकती हैं.

-सूत्रों की मानें तो आनन-फानन में पार्टी का खुला अधिवेशन भी बुला लिया गया है. पार्टी की ओर से यह जानकारी दी गयी है कि आगामी 20 नवंबर को खुले अधिवेशन में राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव किया जायेगा.

– सीबीआई ने 2006 में आईआरसीटीसी के दो होटलों की देखरेख का जिम्मा एक निजी कंपनी को सौंपे जाने में कथित भ्रष्टाचार के मामले में पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव से गुरुवार को करीब सात घंटे तक पूछताछ की. सीबीआई सूत्रों के बताया कि लालू पूर्वाह्न 11 बजे पहुंचे और उन्हें सीधे जांच दल के पास ले जाया गया. सीबीआइ को लालू से बहुत सारी जानकारी मिली है, जिस पर आगे की कार्रवाई की संभावना बन सकती है.

-लालू के साथ उनकी बेटी मीसा भी थीं जिन्हें एजेंसी मुख्यालय की लॉबी में इंतजार करने को कहा गया. सूत्रों की मानें, तो बेटी को लॉबी में इंतजार करने को कहकर सीबीआइ वालों ने लालू पर मानसिक दबाव बनाने का काम किया.

-सात घंटे की पूछताछ में लालू से अनुबंध, कंपनी के जमीन समझौते , प्रेम चंद गुप्ता से संबंध, लाभार्थी कंपनी के मालिकों से संबंध के बारे में प्रश्न पूछे गये. इन प्रश्नों के उत्तर में लालू ने जो भी कहा, उसका प्रयोग सीबीआइ आज तेजस्वी के साथ पूछताछ में उपयोग कर सकती है.

-सूत्रों के मुताबिक सीबीआई पूछताछ सौहार्द पूर्ण थी. पूछताछ के बाद बाहर निकलने पर लालू ने कहा, सीबीआई अधिकारी सौहार्दपूर्ण थे लेकिन वे क्या कर सकते हैं? वे भारत सरकार के आदेशों का पालन कर रहे हैं जो कि मेरे और मेरे परिवार के खिलाफ राजनीतिक प्रतिशोध की कार्रवाई कर रही है.

-लालू ने कहा कि मुझे सीबीआई से कोई शिकायत नहीं है लेकिन केंद्र सरकार मुझे और मेरे परिवार को निशाना बना रही है. उन्होंने कहा , मैंने रेलवे में छिटपुट चोरियां रोकीं, उसे सस्ता बनाया, राजस्व में बढ़ोतरी करायी और मुझ पर ही भ्रष्टाचार के आरोप लगाये जा रहे हैं.

-लालू का दर्द यह है कि उन्होंने इस पूछताछ को पूरी तरह राजनीतिक ऐंगल देते हुए कहा कि कुछ नहीं बस मुझे और मेरे परिवार को निशाना बनाया जा रहा है.

– लालू के बेटे एवं बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव से सीबीआई आज पूछताछ करेगी. सीबीआइ ने रणनीति के तहत सबसे पहले लालू से बहुत कुछ उगलवाया है और अब तेजस्वी यादव से उन्हीं मामलों पर पूछताछ करेगी. कहा जा रहा है कि बाद में दोनों पिता-पुत्र के बयानों का अध्ययन करने के बाद सीबीआइ आगे की रणनीति तय करेगी.

-लालू ने कहा कि मैंने सीबीआई से कहा कि मैं सहयोग करूंगा. मैंने वक्त नहीं मांगा वरना मुझ पर भागने का आरोप लगने लगता.

-आरोप है कि लालू ने 2006 में रेल मंत्री रहते हुए रेलवे के दो होटलों- बीएनआर रांची और बीएनआर पुरी की देखरेख का जिम्मा एक निजी फर्म सुजाता होटल को सौंपा और बदले में एक बेनामी कंपनी के जरिये तीन एकड़ की महंगी जमीन के रूप में रिश्वत ली. सुजाता होटल का स्वामित्व विनय और विजय कोचर के पास है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here