अवैध बूचड़खाना देखने गए कोर्ट कमिश्नरों पर हमला

0
236

बेंगलुरु के येलाहांका इलाके में मंगलवार को अवैध बूचड़खानों की जांच के लिए गए कोर्ट कमिश्नरों, वकीलों, पुलिस और गोरक्षक एनजीओ की टीम पर भीड़ ने हमला बोल दिया। गौ ज्ञान फाउंडेशन की सदस्य कविता जैन के मुताबिक, जांच टीम के सदस्यों के साथ धक्कामुक्की हुई, उनका पीछा किया गया और हमला भी किया गया। भीड़ ने पुलिस की गाड़ियों के शीशे तक तोड़ डाले। पुलिस ने इस सिलसिले में 13 लोगों को गिरफ्तार किया है। कविता के मुताबिक, टीम पर हमला उस वक्त हुआ, जब उसे डोडा बेट्टाहल्ली में एक अवैध बूचड़खाना दिखा। इसे एसएस गराज के भीतर चलाया जा रहा था। इसमें 15 गायें और गोवंश के अन्य पशु थे। एक जगह खुले स्थान पर ऐसे पशुओं को बांधकर भी रखा गया था। हमने बूचड़खाने से उस जगह को खुलवाने को कहा, तो थोड़ी देर में करीब ढाई सौ लोगों की भीड़ ने हमें घेर लिया। किसी तरह हम पुलिस की गाड़ियों तक पहुंचे। इस बारे में यलाहांका पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। पुलिस ने बताया कि अल्पसंख्यक समुदाय के स्थानीय नेताओं के साथ एक मीटिंग भी की गई है, जिसमें इस मसले का समाधान निकालने की कोशिश हुई है।

कविता जैन ने बताया, ‘मैं और जोशीन एंटनी ने अदालत में अवैध बूचड़खानों को बंद करने की अर्जी लगाई हुई है। अदालत ने हमें कम से कम ऐसे पांच बूचड़खाने दिखाने का आदेश दिया था, जिसके बाद हम येलाहांका गए थे। हमारे साथ दो कोर्ट कमिश्नर भी थे। 14 अक्टूबर को भी इनकी टीम ने जेजे नगर, चंद्रा लेआउट और शिकारी पालिया में तीन अवैध बूचड़खानों का पता लगाया था।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here