अयोध्या: जय श्रीराम बोलते हुए 14 कोसी परिक्रमा शुरू

0
193

अक्षय नवमी के पावन पर्व पर भगवान राम की नगरी में 14 कोसी परिक्रमा शुरू हो गई। अयोध्या में हर साल लाखों की संख्या में श्रद्धालु यहां पहुंचते हैं और परंपरागत रूप से पुण्य सलिला मां सरयू नदी में स्नान कर 14 कोसी परिक्रमा प्रारंभ करते हैं।

शनिवार की दोपहर 12:30 पर निर्धारित मुहूर्त में श्रद्धालुओं ने जय श्रीराम के जयघोष के साथ सरयू तट के किनारे से परिक्रमा शुरू की। करीब 42 किलोमीटर लंबे परिक्रमा पथ पर अनवरत चलते हुए श्रद्धालु वापस सरयू तट पर लौटते हैं। इसके अतिरिक्त 14 कोसी परिक्रमा मार्ग पर अन्य स्थानों से भी श्रद्धालुओं ने अपनी सुविधानुसार परिक्रमा प्रारंभ की। श्रद्धालुओं की सुरक्षा को लेकर प्रदेश सरकार ने व्यापक इंतजाम किए हैं। पूरे परिक्रमा पथ पर जगह जगह जिला प्रशासन द्वारा सहायता शिविर लगाये गए हैं।

नंगे पांव की जाती है परिक्रमा
42 किलोमीटर लम्बे परिक्रमा पथ पर लाखों श्रद्धालु हर साल शामिल होते हैं। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवन श्री राम की जन्म स्थली अयोध्या के चारों तरफ से गोलाकार रूप में होने वाली 14 कोस की परिक्रमा की जाती है। इस कठिन परिक्रमा को करने के कुछ ख़ास नियम भी हैं। इनमें से सबसे प्रमुख नियम है 42 किलोमीटर के लम्बे परिपथ पर नंगे पांव परिक्रमा करनी होती है। शास्त्रों के अनुसार परिक्रमा परिपथ के दायरे में भगवान श्री राम की जन्मस्थली अयोध्या और यहां पर स्थित करीब 6 हज़ार मंदिर आते हैं और इस परिक्रमा के माध्यम से भगवान् श्री राम की जन्मस्थली सहित पूरी अयोध्या की परिक्रमा हो जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here