विश्व बैंक की रिपोर्ट को लेकर ट्विटर पर भिड़े राहुल और जेटली

0
181

विश्व बैंक की ताजा रिपोर्ट में ‘ईज ऑफ डूइंग बिजनेस’ इंडेक्स में भारत की रैकिंग में आए सुधार पर जहां भाजपा गदगद है वहीं कांग्रेस को इस पर आपत्ति है। यही वजह रही कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने सरकार पर निशाना साधा तो वित्त मंत्री अरुण जेटली ने तल्ख लहजे में उसका करारा जवाब दे डाला।

राहुल गांधी ने ट्विटर पर मिर्जा गालिब का शेर लिखते हुए कहा कि सबको मालूम है ‘ईज ऑफ डूइंग बिजनेस’ की हकीकत, लेकिन खुद को खुश रखने के लिए डॉ. जेटली यह ख्याल अच्छा है। उधर, इस पर वित्त मंत्री ने तुरंत करारा जवाब दिया। उन्होंने लिखा कि यूपीए सरकार के ‘ईज ऑफ डूइंग करप्शन’ की जगह अब ‘ईज ऑफ डूइंग बिजनेस’ ने ले ली है।

उल्लेखनीय है कि विश्व बैंक की हालिया रिपोर्ट में इस मसले पर भारत की रैकिंग में सुधार दिखाया गया है। पहले भारत 130 नंबर पर था, लेकिन अब उसे 100वें नंबर पर रखा गया है। इसके तत्काल बाद अरुण जेटली ने प्रेस वार्ता में कहा कि भारत अकेला बड़ा देश है जिसका जिक्र ढांचागत सुधार के लिए विश्व बैंक की रिपोर्ट में किया गया है जबकि राहुल ने गुजरात की रैली में कहा कि जेटली को छोटे व मझोले कारोबारियों से पूछना चाहिए कि क्या व्यापार करना पहले से सरल हो गया है। सारा देश चिल्लाकर कहेगा ‘ईज ऑफ डूइंग बिजनेस’ नदारद हो चुका है। नोटबंदी और जीएसटी ने उसे तबाह कर दिया है।

राहुल व जेटली के बीच की लड़ाई में लोगों ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। राहुल के ट्वीट को चार हजार बार री ट्वीट किया गया। चार घंटे के दौरान 25 सौ कमेंट इस पर आए और नौ हजार लोगों ने इसे लाइक किया। जबकि जेटली के ट्वीट पर 720 कमेंट आए। इसे 720 बार री ट्वीट किया गया और 17 सौ लोगों ने इसे लाइक किया। जेटली के ट्वीट के एक घंटे के भीतर लोगों ने प्रतिक्रिया दी।

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने राहुल पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्हें पता भी है कि विश्व बैंक की रिपोर्ट का आशय क्या है। उनका कहना था कि भारत ने एक लंबी छलांग लगाई है, क्योंकि मोदी सरकार ने साहसी फैसले लेकर अर्थव्यवस्था को सही राह पर लाने की पहल की। उन्होंने राहुल की ताजपोशी का भी माखौल उड़ाया। उनका कहना था कि उन्हें अपने परिवार का ऋणी होना चाहिए। भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी के आधार को लेकर उठाए सवाल पर उनका कहना था कि डाटा की सुरक्षा का पूरा इंतजाम है। आपराधिक मामलों लिप्त राजनेताओं पर सुप्रीम कोर्ट में चुनाव आयोग के पक्ष पर उनका कहना था कि सभी दलों को इस पर एकराय बनानी होगी। भाजपा ऐसे नेताओं पर पूर्ण प्रतिबंध की हिमायती है।

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल व राजीव शुक्ला ने कहा है कि भाजपा जिस विश्व बैंक की रिपोर्ट पर अपनी पीठ थपथपा रही है, उसकी हकीकत का पता लगाना है तो सरकार धरातल पर जाकर हालात देखे। केवल मुंबई और दिल्ली के कारोबार को लेकर सरकार शेखी न बघारे। छोटे शहरों में हालात किस तरह से बदतर हो चुके हैं, उन पर भी नजर डाली जाए। कांग्रेस नेताओं का कहना है कि सरकार लोगों को केवल गुमराह कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here