SPK NEWS DESK पैराडाइज पेपर्स में नाम आने पर सफाई देते हुए केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने कहा कि पैसों का लेन-देन निजी उद्देशय के लिए नहीं हुआ था। सिन्हा ने सोमवार (6 नवंबर) को ट्वीट और मीडिया के जरिए सफाई दी थी। सिन्हा का कहना है कि उन्होंने जो भी लेनदेन किया था वह कंपनी की तरफ से किया था और वह पूरी तरह से कानूनी और प्रमाणिक था जब मैं राजनीति में भी नहीं था और सबकुछ बताकर किया गया था।
सिन्हा ओमीडियर (Omidyar) नेटवर्क नाम की एक भारतीय कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर थे। इस कंपनी ने यूएस की एक कंपनी डी.लाइट डिजाइन जिसकी कैमेन आईलैंड में भी कंपनी थी उसमें निवेश किया था। दस्तावेज में इसी का जिक्र है। सिन्हा ने कहा कि ओमिडयर नेटवर्क से इस्तीफे के बाद उन्हें डी लाइट बोर्ड का स्वतंत्र डायरेक्टर बने रहने की पेशकश हुई थी, लेकिन केंद्रीय मंत्री बनते ही उन्होंने डी लाइट बोर्ड कंपनी से अपने आपको अलग कर लिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here