करियर के आखिरी दिनों में मिला ‘हेडमास्टर’ का तमगा: कुंबले

0
211

मैदान पर अपना सब कुछ झोंकने के लिए मशहूर रहे पूर्व भारतीय कोच अनिल कुंबले ने कहा कि बेहद अनुशासित परवरिश से वह अपने जीवन में अनुशासन प्रिय बने जिसकी वजह से उन्हें अपने चमकदार करियर के आखिरी दिनों में ‘हेडमास्टर’ का अप्रिय तमगा भी मिला।

कुंबले ने माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्य नाडेला के साथ अपने बचपन की सीख के बारे में बातचीत की जिसने उन्हें सफल क्रिकेटर बनने में काफी मदद की। हैदराबाद में जन्में और खुद को क्रिकेट प्रेमी कहने वाले नाडेला ने उनकी बातों को गौर से सुना।

कुंबले ने माता पिता से ली ये सीख
नाडेला ने जब कुंबले से पूछा कि उन्हें अपने माता पिता से क्या सीख मिली, उन्होंने कहा कि आत्मविश्वास। यह उन संस्कारों से आता है जो आपको अपने माता-पिता और दादा-दादी, नाना-नानी से मिलते हैं। कुंबले ने कहा कि मेरे दादा स्कूल में हेडमास्टर थे और मैं जानता हूं कि यह शब्द (हेडमास्टर) मेरे करियर के अंतिम दिनों में मुझसे जुड़ा। इनमें से कुछ समझ जाएंगे (कि मैं क्या कहना चाह रहा हूं।) कुंबले और नाडेला के बीच बातचीत माइक्रोसॉफ्ट सीईओ की हाल में जारी की गई किताब ‘हिट रिफ्रेश’ के इर्द गिर्द घूमती रही। दोनों ने अपनी जिंदगी के ‘हिट रिफ्रेश’ क्षणों के बारे में काफी बात की।

कुबंले ने 2003-04 के आस्ट्रेलिया दौरे के बारे में बताया
कुंबले ने कहा कि 2003-04 का आस्ट्रेलिया दौरा वह समय था जब उनके सामने खुद का करियर पुनर्जीवित करना चुनौती थी। भारत ने चार टेस्ट मैचों की यह श्रृंखला ड्रा कराई थी। उन्होंने कहा कि एक क्रिकेटर होने के नाते आपको हर श्रृंखला की समाप्ति पर खुद को अगली चुनौती के लिए तैयार करना होता है। एक श्रृंखला से दूसरी श्रृंखला के लिए चुनौतियां भिन्न होती है। लेकिन मैं 2003-04 के आस्ट्रेलिया दौरे का जिक्र करना चाहूंगा जब मैं अपने करियर को लेकर दोराहे पर खड़ा था। कुंबले ने कहा कि मैं अंतिम एकादश में जगह बनाने के लिए प्रतिस्पर्धा (हरभजन सिंह के साथ) कर रहा था। मैं 30 की उम्र पार कर चुका था और लोग मेरे संन्यास को लेकर बातें करने लगे थे। मुझे एडिलेड टेस्ट में मौका मिला जिसे हमने जीता था।

टेनिस बॉल से खेल कर सीखा गुगली फेंकनी
उन्होंने कहा कि मैंने पहले दिन काफी रन लुटाए लेकिन दूसरे दिन 5 विकेट लेने में सफल रहा। मुझे कुछ अलग करने की जरूरत समझ में आई। इसलिए मैंने अलग तरह की गुगली फेंकनी शुरू की जो मैंने तब सीखी थी जब मैं टेनिस बॉल से क्रिकेट खेला करता था। तब मुझे अहसास हुआ कि मैं अपने खेल में सुधार करने के लिए थोड़े बदलाव कर सकता हूं। ’’

2001 के दौरे का किया जिक्र
भारतीय क्रिकेट के महत्वपूर्ण मोड़ के बारे में पूछे जाने पर कुंबले ने 1983 की विश्व की जीत और आस्ट्रेलिया के 2001 के दौरे का जिक्र किया जब भारत ने पिछडऩे के बाद वापसी करके 2-1 से जीत दर्ज की थी। उन्होंने कहा, ‘‘नब्बे के दशक की सबसे अच्छी बात यह रही है कि हमने घरेलू सरजमीं पर लगभग हर मैच जीता। लेकिन अगर आप एक महत्वपूर्ण मोड़ की बात करना चाहते हो तो वह 2001 की भारत -आस्ट्रेलिया श्रृंखला थी। मैंने चोटिल होने के कारण उसमें हिस्सा नहीं लिया था। कुंबले ने कहा कि यह वह समय था जबकि टीम को अपनी असली क्षमता का पता चला। इसके बाद भारतीय क्रिकेट लगातार मजबूत होता रहा और हम नंबर एक भी बने।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here