माता वैष्णो देवी यात्रा पर जाने से पहले ध्यान रखें यह 5

0
18

एनजीटी ने माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड को निर्देश जारी करते हुए कहा है कि यात्रा के दौरान 1 दिन में केवल 50 हजार श्रद्धालु से ही दर्शन के लिए जाएं. इसके साथ ही एनजीटी ने यात्रा मार्ग पर किसी भी तरह के निर्माण पर रोक लगा दी है. आपको बता दें कि देश और दुनिया से माता वैष्णो देवी मंदिर में प्रतिदिन हजारों की संख्या में श्रद्धालु आते है. आपको बता दें कि माता के दर्शन के लिए प्रत्येक श्रद्धालु को कटरा स्थित श्राइन बोर्ड कार्यालय से पर्ची कटवा कर ही यात्रा शुरू करनी होती है. इसके बाद यात्रियों को बाण-गंगा के रास्ते 14 किलोमीटर की यात्रा शुरू करनी होती है. एनजीटी ने अपने आदेश में कटरा में गंदगी फैलाने वालों पर भी जुर्माना लगाने की बात कही है. यदि आप माता वैष्णो देवी के दर्शन के लिए जा रहे हैं तो आपके लिए यह पांच बातें ध्यान में रखना जरूरी है.

यात्रियों की संख्या कर दी है सीमित
एनजीटी ने माता वैष्णो देवी धाम की यात्रा पर एक दिन में 50 हजार श्रद्धालुओं की संख्या सीमित कर दी है. इससे बिना पर्ची के कटरा पहुंचने वाले यात्रियों को खासी दिक्कत हो सकती है. क्योंकि यात्रियों की संख्या ज्यादा होने पर अब नई पर्ची जारी नहीं की जाएगी.

यात्रा की ऑनलाइन पर्ची लेना रहेगा लाभकारी
यदि आप कटरा के पंजीकरण कार्यालय में यात्रा की पर्ची लेने पहुंचे और यात्रियों की संख्या अधिक हुई तो हो सकता है कि आपको वहीं रुकना पड़े. ऐसी स्थिति में आपको यात्रा के लिए अगले दिन की पर्ची मिलेगी. इसलिए माता के धाम की यात्रा करने वाले श्रद्धालुओं के लिए ऑन लाइन पर्ची लेना ज्यादा लाभकारी रहेगा.

कटरा में गंदगी करने पर देना होगा जुर्माना
एनजीटी के आदेश के मुताबिक माता वैष्णो देवी के दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालु और वहां का प्रशासन इस पवित्र स्थान पर स्वच्छता को लेकर खास सतर्क रहे. एनजीटी ने प्रशासन को आदेश दिया है कि यदि कोई भी कटरा में गंदगी करता पाया जाता है तो उस पर 2000 रुपये का जुर्माना लगाया जाए

नए रास्ते पर नहीं मिलेंगी यह सुविधाएं
माता वैष्णो देवी यात्रा के लिए एनजीटी ने श्राइन बोर्ड को आदेश दिया है कि यात्रा का नया रास्ता 24 नवंबर तक शुरू कर दिया जाना चाहिए. एनजीटी ने कहा है कि इस रास्ते पर केवल पैदल यात्री और बैटरी कारें चलेंगी. यानि इस रास्ते पर घोड़े, टट्टू और पालकी की सुविधा नहीं मिलेगी. इस रास्ते पर आप बैटरी कार के जरिए अपनी यात्रा कर सकते हैं.

ठहरने की व्यवस्था का रखें खास ख्याल
एनजीटी ने अपने फैसले में कहा कि माता वैष्णो देवी के आसपास के इलाको में कोई नया निर्माण नहीं होगा. इससे वहां आने वाले श्रद्धालुओं को दिक्कत हो सकती है. आपको बता दें कि जैसे-जैसे माता के दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या में बढ़ोतरी हुई है, वैसे-वैसे कटरा में ठहरने के लिए बनने वाले होटलों की संख्या में भी बंपर बढ़ोतरी हुई है. इसलिए अभी तक किसी को भी यहां ठहरने को लेकर ज्यादा दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ा था. लेकिन अब इस पर रोक लगा दी गई है. इसलिए आप जब भी माता के दर्शन के लिए जाएं अपने ठहरने की व्यवस्था का प्रबंध पहले से ही करके चलें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here