क्या आज भी प्रासंगिक हैं मार्क्स के विचार?

0
12

पिछले दिनों रूसी क्रांति की शताब्दी मनाई गई। इस मौके पर इस पर खूब चर्चा हुई कि जिनके विचारों पर ये क्रांति हुई, क्या वो आज भी प्रासंगिक हैं? जर्मन दार्शनिक कार्ल मार्क्स ने उन्नीसवीं शताब्दी में काफ़ी कुछ लिखा, लेकिन आज भी इसमें कोई विवाद नहीं है कि उनकी दो कृतियां ‘कम्युनिस्ट घोषणा पत्र’ और ‘दास कैपिटल’ ने एक समय दुनिया के कई देशों और करोड़ों लोगों पर राजनीतिक और आर्थिक रूप से निर्णयाक असर डाला। रूसी क्रांति के बाद सोवियत संघ का उदय इस बात का उदाहरण था। कोई भी इनकार नहीं कर सकता कि बीसवीं शताब्दी के इतिहास पर समाजवादी खेमे का बहुत असर रहा। हालांकि, जैसा मार्क्स और एंगेल्स ने लिखा था, उस तरह साम्यवाद ज़मीन पर नहीं उतर पाया।

अंततः समाजवादी खेमा ढह गया और पूंजीवाद लगभग इस पूरे ग्रह पर छा गया।लेकिन मार्क्स के कई साम्यवाद की असफलता के बावजूद आज भी प्रासंगिक बने हुए हैं।’कम्युनिस्ट घोषणापत्र’ और अपने अन्य लेखों में मार्क्स ने पूंजीवादी समाज में ‘वर्ग संघर्ष’ की बात की है और बताया है कि कैसे अंततः संघर्ष में सर्वहारा वर्ग पूरी दुनिया में बुर्जुआ वर्ग को हटाकर सत्ता पर कब्ज़ा कर लेगा।अपनी सबसे प्रसिद्ध कृति ‘दास कैपिटल’ में उन्होंने अपने इन विचारों को बहुत तथ्यात्मक और वैज्ञानिक तरीके से विश्लेषित किया है।20वीं शताब्दी में मज़दूरों ने रूस, चीन, क्यूबा और अन्य देशों में शासन करने वालों को उखाड़ फेंका और निज़ी संपत्ति और उत्पादन के साधनों पर कब्जा कर लिया। लेकिन बाद में ये सिस्टम बिखर गया।

पूंजीवाद के ‘पिता’ कहे जाने वालेएडम स्मिथ के ‘वेल्थ ऑफ़ नेशन’ से उलट मार्क्स का मानना था कि बाज़ार को चलाने में किसी अदृश्य शक्ति की भूमिका नहीं होती। पूंजीवाद में मंदी का बार बार आना तय है। इसका कारण पूंजीवाद में ही निहित है।1929 में शेयर बाज़ार औंधे मुंह गिर गया और इसके बाद आने वाले झटके 2007-08 के चरम तक पहुंच गए, जब दुनिया का वित्त बाज़ार अभूतपूर्व रूप से संकट में आ गया था।मार्क्स के सिद्धांत का एक अहम पहलू है- ‘अतिरिक्त मूल्य।’ ये वो मूल्य है जो एक मज़दूर अपनी मज़दूरी के अलावा पैदा करता है।मार्क्स के मुताबिक़, समस्या ये है कि उत्पादन के साधनों के मालिक इस अतिरिक्त मूल्य को ले लेते हैं और सर्वहारा वर्ग की क़ीमत पर अपने मुनाफ़े को अधिक से अधिक बढ़ाने में जुट जाते हैं।इस तरह पूंजी एक जगह और कुछ चंद हाथों में केंद्रित होती जाती है और इसकी वजह से बेरोज़गारी बढ़ती है।

मार्क्स के जीवनी लेखक फ़्रांसिस व्हीन कहते हैं कि पूंजीवाद अपनी कब्र खुद खोदता है, मार्क्स की ये बात ग़लत है, बल्कि इससे उलट ही हुआ है। साम्यवाद ख़त्म हुआ तो दूसरी तरफ़ पूंजीवाद सर्वव्यापी हुआ है। मगर ‘कम्युनिस्ट घोषणा’ पत्र में मार्क्स ने तर्क किया है कि पूंजीवाद के वैश्विकरण ही अंतरराष्ट्रीय अस्थिरता का मुख्य कारण बनेगा।20वीं और 21वीं शताब्दी के वित्तीय संकटों ने ऐसा ही दिखाया है।यही कारण है कि भूमंडलीकरण की समस्याओं पर मौजूदा बहस में मार्क्सवाद का बार बार ज़िक्र आता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here