जानें- आखिर क्‍या है WMCC जिसमें पहली बार उठा डो‍कलाम विवाद का मुद्दा

0
242

डोकलाम विवाद कोई इसी वर्ष पहली बार सामने नहीं आया था बल्कि यह काफी पुराना विवाद है। भारत-चीन सीमा पर शांति बनाए रखने के उद्देश्य WMCC की स्थापना की गई थी

नई दिल्‍ली (स्‍पेशल डेस्‍क)। डोकलाम विवाद को अभी महज ढाई माह ही गुजरा है। आज यह मामला भले ही शांत हो गया हो लेकिन एक हकीकत यह भी है कि चीन की आंख आज भी इस विवादित इलाके से हटी नही है। जिस वजह से इस इलाके में विवाद शुरू हुआ था वह काम चीन आज भी जारी किए हुए है। हालांकि हमें यह भी नहीं भूलना चाहिए कि यह विवाद कोई इसी वर्ष पहली बार सामने नहीं आया था बल्कि यह काफी पुराना विवाद है। भारत-चीन सीमा पर शांति बनाए रखने के उद्देश्य से ही संपर्क एवं समन्वय के लिए संस्थागत तंत्र के रूप में 2012 में वर्किंग मैकेनिज्‍म फॉर कंसलटेशन एंड कॉर्डिनेशन (Working Mechanism for Consultation and Coordination, WMCC) की स्थापना की गई थी। इसको सीमा पर बार-बार अतिक्रमण से उपजने वाले तनाव से निपटने के लिए स्थापित किया गया था। सीमा सुरक्षाकर्मियों के बीच संवाद और सहयोग को मजबूत रखने के विचार को भी ध्यान इसमें रखा गया था।

कैसे हुई थी डोकलाम विवाद की शुरुआत

यहां पर हम आपको याद दिला दें कि इस वर्ष डोकलाम विवाद की शुरुआत 18 जून, 2017 को उस वक्‍त हुई, जब कुछ भारतीय सैनिकों ने दो बुलडोजर्स के साथ पीएलए के सैनिकों को इस इलाके में सड़क निर्माण करने से रोक दिया था। इसके बाद 9 अगस्त, 2017 को चीन ने दावा किया कि उसके कुछ सैनिक और कुछ चीजें ही विवादित इलाके में हैं। इस विवाद पर लगातार बयानबाजी होती रही। चीन के बयानों को दरकिनार करते हुए भारत ने दावा किया था कि वहां पर चीन के करीब 300 से 400 जवान मौजूद हैं। ब्रिक्‍स सम्‍मेलन से पहले इस विवाद को सुलझाने की कवायद तेज हुई जिसके बाद यह हुआ कि 28 अगसत 2017 को दोनों देशों की सेनाओं ने पीछे हटने का निर्णायक फैसला लिया। यह विवाद 72 दिनों तक बरकरार रहा था। इस दौरान चीन की तरफ से काफी तीखी बयानबाजी तक की गई थी। इतना ही नहीं चीन ने सीमा पर अपने जवानों तक की संख्‍या में इजाफ कर लिया था। इसका ही नतीजा था कि भारत को अपनी सीमा पर चौकसी के लिए अतिरिक्‍त जवानों को तैनात करना पड़ा था।ब्रिक्‍स सम्‍मेलन में जाने से पीएम का इंकार

इसके पीछे वजह थी कि ब्रिक्‍स सम्‍मेलन में भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी ने विवाद के बाद जाने से इंकार कर दिया था। लिहाजा चीन के लिए इस विवाद को सुलझाना बड़ी चुनौती बन गई थी। वहीं इसको लेकर जापान और अमेरिका ने भी भारत का साथ दिया था। हालांकि इसके बाद मीडिया में यह भी रिपोर्ट आई थी कि चीन ने एक बार फिर से इस इलाके में सड़क निर्माण का काम शुरू कर दिया है।

WMCC की बैठक में पहली बार उठा डोकलाम विवाद

इस विवाद के करीब ढाई माह बाद बीजिंग में हुई डब्‍ल्‍यूएमसीसी की बैठक में पहली बार भारत और चीन ने इस मुद्दे पर बातचीत की है। भारत की तरफ से इस बैठक में विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव (पूर्व एशिया) प्रणय वर्मा ने भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया। वहीं चीन की ओर से एशियाई मामलों के विभाग के महानिदेशक शिआओ किआन ने नेतृत्व किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here