नागपुर: RSS प्रमुख मोहन भागवत से मिलेंगे श्री श्री रविशंकर, अयोध्‍या विवाद पर चर्चा करेंगे

0
183

नागपुर : मध्‍यस्‍थता के जरिये अयोध्या विवाद सुलझाने की कोशिश में जुटे आर्ट ऑफ लिविंग के संस्‍थापक और आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर आज (शनिवार को) आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से मुलाकात करेंगे. शुक्रवार को श्री श्री ने कहा था कि वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत से मिलकर इस मुद्दे पर चर्चा करेंगे. वह आर्ट ऑफ लिविंग द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लेने यहां आए हुए हैं.

श्री श्री रविशंकर ने कहा है कि राम मंदिर मुद्दे को सुलझाने के लिए आशा की किरण दिख रही है. उन्‍होंने शुक्रवार शाम हवाईअड्डे पर एक सवाल के जवाब में कहा था, ‘आशा की किरण दिख रही है. बहुत अच्छा माहौल बनता जा रहा है’. यह पूछे जाने पर कि क्या वह अयोध्या मुद्दे पर भागवत से मिलेंगे, रविशंकर ने कहा था, ‘मैं उनसे मिलकर राम मंदिर मुद्दे पर चर्चा करूंगा’.

इससे पहले शुक्रवार को अयोध्या मुद्दे का बातचीत और परस्पर सहमति के जरिए समाधान खोजने के प्रयास के तहत आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर ने लखनऊ में मुस्लिम धार्मिक नेताओं से बातचीत की थी. ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य मौलाना खालिद राशिद फरंगीमहली के साथ बैठक के बाद रविशंकर ने संवाददाताओं से कहा था, ‘बातचीत के जरिए हम हर समस्या हल कर सकते हैं. अदालत का सम्मान है, लेकिन अदालत दिलों को नहीं जोड़ सकती…अगर हमारे दिल से एक फैसला निकले तो उसकी मान्यता सदियों तक चले’.
रविशंकर अयोध्या में भी विभिन्न धार्मिक नेताओं से मिले थे. सवालों के जवाब में उन्होंने कहा कि देश से जुडे़ सभी मुद्दों पर बातचीत की जरुरत है. भाईचारे और पुरानी संस्कृति को आगे बढ़ाने की जरुरत है.

अयोध्‍या विवाद- अब बातचीत का कोई मतलब नहीं, बहुत देर हो चुकी है: CM योगी आदित्‍यनाथ

श्री श्री रविशंकर गुरुवार को फैजाबाद और अयोध्या में प्रमुख साधु-संतोें और मुस्लिम बुद्धिजीवियों से मिले थे. अयोध्या जाने से पहले वह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से लखनऊ में मिले थे. रविशंकर ने कहा था कि कोई सौहार्द्र के विरोध में नहीं है. ये अभी शुरूआत है. हम सबसे बात करेंगे. उन्‍होंने अयोध्या मुद्दे के समाधान के लिए मध्यस्थता की पेशकश की थी. दोनों ही समुदायों के कुछ संगठन उनकी भूमिका को लेकर आपत्ति व्यक्त कर चुके हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here