जानें, ICJ में भारत का मान बढ़ाने वाले दलवीर भंडारी के बारे में

0
112

भारत के दलवीर भंडारी इंटरनैशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस के जज के तौर पर दोबारा चुन लिए गए हैं। जनवरी 2012 में उनको भारत सरकार की ओर से इंटरनैशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में अपने आधिकारिक उम्मीदवार के तौर पर नामित किया गया था। 27 अप्रैल, 2012 को हुए चुनाव में भंडारी को संयुक्त राष्ट्र महासभा में 122 वोट मिले थे जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी को 58। 20 नवंबर, 2017 को उनको दोबारा आईसीजे के जज के तौर पर चुन लिया गया है। उनका मुकाबला ब्रिटेन के क्रिस्टोफर ग्रीनवुड से था लेकिन ब्रिटेन ने भारत के पक्ष में माहौल बनता देख ग्रीनवुड की उम्मीदवारी वापस ले ली थी। इस मौके पर आइये आज दलवीर भंडारी के बारे में जानते हैं… शुरुआती जीवन एवं शिक्षा
1 अक्टूबर, 1947 को जन्में भंडारी का संबंध वकील परिवार से रहा है। उनके पिता महावीर चंद भंडारी एवं दादा बी.सी.भंडारी राजस्थान बार के सदस्य थे। उन्होंने जोधपुर यूनिवर्सिटी से ह्यूमैनिटीज और लॉ में डिग्री ली। 1968 से 1970 तक उन्होंने राजस्थान हाई कोर्ट में प्रैक्टिस की। जून 1970 में शिकागो में आयोजित एक कार्यशाला में भाग लेने गए दलवीर भंडारी ने कई देशों में अपनी सेवा प्रदान की। लॉ और जस्टिस में उनके उल्लेखनीय योगदान को देखते हुए तुमकुर यूनिवर्सिटी, कर्नाटक ने डॉक्टर ऑफ लॉ (एलएलडी) की डिग्री दी। करियर
भारत लौटने के बाद उन्होंने 1973 से 1976 तक फिर से राजस्थान हाई कोर्ट में प्रैक्टिस की। उसके बाद 1977 में दिल्ली आ गए जहां तरक्की करते हुए वह दिल्ली हाई कोर्ट में जज बनें। 25 जुलाई, 2004 को उनको बॉम्बे हाई कोर्ट का मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया गया। एक साल बाद वह 28 अक्टूबर, 2005 को सुप्रीम कोर्ट के जज बनें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here