रेलवे में एलआईसी के 1.5 लाख करोड़ के निवेश को वित्त मंत्रालय का ग्रीन सिग्नल

0
150

शिल्पी सिन्हा, मुंबई
लाइफ इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (एलआईसी) द्वारा रेलवे में 1.5 लाख करोड़ रुपये के निवेश की योजना पर अब आगे बढ़ सकती है। वित्त मंत्रालय ने इसके लिए ग्रीन सिग्नल दे दिया है। इंश्योरेंस रेग्युलेटर ने पहले इस योजना पर चिंता जताई थी और कहा था कि निवेश के लिए बॉन्ड पर सरकार की गारंटी मांगी जानी चाहिए। एलआईसी ने दो साल पहले रेलवे के साथ मेमोरैंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए थे। इसके मुताबिक, सरकारी कंपनी को इंडियन रेलवे फाइनैंस कॉर्पोरेशन (आईआरएफसी) के जारी किए बॉन्ड खरीदकर यह निवेश करना था। हालांकि, इससे आईआरएफसी की नेटवर्थ में एलआईसी की हिस्सेदारी 25 पर्सेंट से अधिक हो जाती, लिहाजा इंश्योरेंस रेग्युलेटर ने बॉन्ड पर सरकार से गारंटी मांगी थी। उसने यह भी कहा था कि ऑइल बॉन्ड की तरह गजट नोटिफिकेशन जारी कर इसे स्पेशल बॉन्ड का दर्जा दिया जाए।

वित्त मंत्रालय ने इस मामले में आदेश जारी कर दिया है। उसने कहा है कि आईआरएफसी का बॉन्ड एक्सपोजर लिमिट से अधिक के निवेश के लिए मान्य है। उसने बॉन्ड पर सरकार की तरफ से गारंटी ऑफर नहीं की है, लेकिन यह कहा है कि ये इंश्योरेंस ऐक्ट की धारा 2(3) के तहत आएंगे, जिसमें रेलवे मंत्रालय को होने वाली आमदनी में से रीपेमेंट वसूली जाएगी। रेलवे मिनिस्ट्री की आमदनी को बजट से सपॉर्ट हासिल होता है। केंद्र सरकार की आमदनी से रीपेमेंट की बात एक तरह से सॉवरेन गारंटी से भी अधिक है। इससे रकम को चुकाने की सरकार की नीयत स्पष्ट हो जाती है। वहीं, सरकार की गारंटी में पेमेंट इसे भुनाए जाने पर ही होती है। वित्त मंत्रालय ने यह बात कही है।

पिछले हफ्ते इस मामले में रेलवे, इंश्योरेंस रेग्युलेटरी एंड डिवेलपमेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (इरडा), एलआईसी और वित्त मंत्रालय की मीटिंग हुई थी। उसके बाद स्पष्टीकरण दिया गया है। मीटिंग में चर्चा हुई थी कि क्या इसे बिना सरकार की गारंटी के हायर लिमिट वाली अप्रूव्ड इन्वेस्टमेंट कैटिगरी में डाला जा सकता है। एलआईसी के निवेश करने से रेलवे की फंडिंग कॉस्ट कम होगी। इससे रेलवे को अगले कुछ साल में पूरे ट्रैक के विद्युतीकरण जैसी महत्वाकांक्षी परियोजना को पूरा करने में मदद मिलेगी। पीयूष गोयल ने अगस्त में रेलवे मंत्रालय का जिम्मा संभाला था। उन्होंने कहा कि रेलवे अगले पांच साल में 10 लाख करोड़ रुपये से अधिक का निवेश करने की योजना पर काम कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here