राजस्थान: स्टूडेंट्स में देशभक्ति की भावना ‘जगाने’ के लिए हॉस्टलों में राष्ट्रगान अनिवार्य

0
136

जयपुर
राजस्थान सरकार ने अब स्कूल के स्टूडेंट्स में देशभक्ति की भावना को ‘जगाने’ के लिए हॉस्टलों में राष्ट्रगान + को अनिवार्य कर दिया है। राजस्थान के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग ने ओबीसी, एससी तथा एसटी के सभी 789 हॉस्टलों को राष्ट्रगान गाने का निर्देश जारी किया है। निर्देश के अनुसार सभी हॉस्टलों में सुबह 7 बजे राष्ट्रगान अनिवार्य होगा। लेटेस्ट कॉमेंटइसे फरमान नही… सरकारी आदेश / अध्यादेश कहते हैं….चर्चित |आपत्तिजनकसभी कॉमेंट्स देखैंकॉमेंट लिखें सरकार के द्वारा सोमवार को जारी एक बयान के अनुसार सभी आवासीय स्कूलों में राष्ट्रगान + अनिवार्य होगा। यह परंपरा हॉस्टलों में भी फॉलो की जाएगी। विभाग द्वारा जारी यह निर्देश रविवार से ही प्रभावी हो गया है। विभाग के प्रमुख सचिव समित शर्मा ने बताया कि राष्ट्रगान गाने की यह परंपरा हॉस्टलों की दिनचर्या में पहले से शामिल है।

उन्होंने कहा, ‘हॉस्टलों में रहने वाले बच्चे हर सुबह प्रार्थना के लिए तो एकत्र होते हैं। स्टाफ की कमी की वजह से राष्ट्रगान गाने के निर्देश का पालन नहीं हो पा रहा था। यह निर्देश इसलिए जारी किया गया है कि राष्ट्रगान को नियमित तौर पर गाया जाए।’ विभाग के अंतर्गत में करीब 800 हॉस्टल हैं, जिनमें 40 हजार स्टूडेंट्स पढ़ते हैं।

इससे पहले जयपुर के मेयर अशोक लाहोटी ने भी सुबह राष्ट्रगान और शाम को वंदेमातरम गाना अनिवार्य कर दिया था। इसके बाद राजस्थान यूथ बोर्ड ने 8 नवंबर को सवाई मान सिंह स्टेडियम में ‘वंदे मातरम’ कार्यक्रम का आयोजन किया था। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे भी इस कार्यक्रम में शामिल हुईं थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here