किम का दावा, हम परमाणु शक्ति बन गए, अमेरिका में कहीं भी कर सकते हैं हमला

0
278

एएफपी, सोल नॉर्थ कोरिया के नेता किम जोंग उन ने बुधवार को ऐलान किया कि उनका देश अब पूर्ण रूप से परमाणु शक्ति बन गया है और बैठे-बैठे अमेरिका के किसी भी कोने में हमला कर सकता है। किम के इस बयान को अमेरिकी प्रेजिडेंट ट्रंप की घोषणा का जवाब माना जा रहा है। ट्रंप ने कहा था, ‘नॉर्थ कोरिया कभी भी पूर्ण परमाणु क्षमता को हासिल नहीं कर पाएगा।’दो महीने के विराम के बाद बुधवार को नॉर्थ कोरिया ने इंटरनैशनल बैलिस्टिक मिसाइल (आईसीबीएम) का सफल टेस्ट किया। कोरिया ने दावा कि यह मिसाइल 4,475 किलोमीटर की ऊंचाई पर गई और टेस्ट की गई जगह से 950 किलोमीटर दूर जापान के समुद्र में जाकर गिरी। एक्सपर्ट्स के अनुसार इसकी वास्तविक रेंज 8000 किमी. से ऊपर हो सकती है। टेस्ट किए गए मिसाइल सिस्टम का नाम आईसीबीएम ह्वासोंग-15 है। यह मिसाइल परमाणु हथियार भी ले जा सकती है।इस टेस्ट के बाद नॉर्थ कोरिया के सरकारी टीवी पर एक एंकर ने किम जोंग उन का भाषण पढ़ा। किम ने कहा, ‘मैं गर्व से अपने देशवासियों को बताना चाहता हूं कि जो सपना हमने देखा था, उसे हासिल कर लिया है। हम एक रॉकेट शक्ति और परमाणु शक्ति बन गए हैं। यह नॉर्थ कोरिया के साहसी लोगों की जीत है। अब हम अमेरिका के किसी भी कोने में हमला कर सकते हैं।’किम के इस बयान के बाद दुनियाभर से प्रतिक्रियाएं आने लगीं। ट्रंप ने कहा, ‘मैं आपसे बस इतना ही कहूंगा कि हम इस स्थिति से निपट लेंगे।’ साउथ कोरिया के प्रेजिडेंट मून जे-इन ने कहा, ‘कोरियाई क्षेत्र में हालात बिगड़ रहे हैं और वह युद्ध में बदल सकते हैं।’ रूस और चीन ने भी नॉर्थ कोरिया द्वारा किए गए टेस्ट को उकसावे वाला कदम बताया है।उत्तर कोरिया मिसाइल परीक्षण: ट्रंप, आबे और मून ने बातचीत की वाशिंगटन: उत्तर कोरिया द्वारा बुधवार को मिसाइल परीक्षण किये जाने की पृष्ठभूमि में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आज अपने दक्षिण कोरियाई समकक्ष मून जे-इन और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे के साथ कोरिया के इस उकसावे भरे कदम पर चर्चा की। उत्तर कोरिया ने एक तथाकथित अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया है जो प्योंगयांग के खिलाफ ताजा प्रतिबंध लगाने और उसे आतंकवादियों का वित्तपोषण करने वाला देश घोषित करने वाले ट्रंप के लिए बडी चुनौती पेश करता है। मिसाइल उत्तर कोरिया के सैन नि से प्रक्षेपित की गई और जापान के विशेष आर्थिक जोन क्षेत्र में जापान सागर में गिरने से पहले उसने करीब 1000 किलोमीटर की दूरी तय की। अमेरिका के रक्षा मंत्री जिम मैटिस ने बताया कि इस मिसाइल ने पिछली सभी मिसाइलों के मुकाबले ज्यादा ऊंचाई तक उड़ान भरी। इसकी प्रतिक्रिया स्वरूप दक्षिण कोरिया ने पानी में पिनप्वाइंट मिसाइलें दागी हैं, ताकि उत्तर कोरिया यह समझ सके कि वह हमारे सहयोगी के हमले की जद में है। अमेरिका के उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने कहा कि सभी विकल्प खुले हैं। पेंस ने कहा कि जब तक उत्तर कोरिया अपने परमाणु और बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम को हमेशा के लिए बंद नहीं कर देता, हम उसपर आर्थिक और राजनयिक दबाव बनाना जारी रखेंगे।चीन ने उ कोरिया के मिसाइल परीक्षण पर गंभीर चिंता जताईबीजिंग: चीन ने आज उ कोरिया द्वारा अमेरिका तक मारक क्षमता वाली मिसाइल के परीक्षण पर गंभीर चिंता जताई और उत्तर कोरिया से कोरियाई प्रायद्वीप में तनाव बढ़ाने वाले कदमों को रोकने के लिए कहा। बीजिंग ने उत्तर कोरिया से यह भी कहा कि बैलिस्टिक मिसाइल तकनीक के प्रयोग पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों का कडाई से पालन किया जाए। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने कहा कि चीन इन परीक्षण गतिविधियों पर गंभीर चिंता जताता है और इसका विरोध करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.