मुलायम की छोटी बहू तक पहुंची ‘पद्मावती’ विवाद की आंच

0
206

दीपका पादुकोण स्टारर ‘पद्मावती’ फिल्म के विरोध की आंच अब एसपी संस्थापक मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव तक पहुंच गई है। अपर्णा का एक डांस विडियो वायरल हो रहा है, जिसमें उन्होंने ‘पद्मावती’ फिल्म के विवादित घूमर डांस पर नृत्य किया है। करणी सेना ने इस विडियो पर ऐतराज जताते हुए इसे राजपूतों का अपमान करार दिया है।सोशल मीडिया साइट्स पर अपर्णा यादव का जो विडियो वायरल हो रहा है उसे एक निजी आयोजन के दौरान फिल्माया हुआ बताया जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक यह विडियो अपर्णा के भाई अमन बिष्ट की सगाई का है। सगाई राजधानी के एक पंचसितारा होटल में हुई थी। स्टेज पर उन्होंने विवादित फिल्म ‘पद्मावती’ के घूमर गाने पर डांस किया था। विडियो वायरल होने के बाद कई संगठनों ने अपर्णा यादव को अपने निशाने पर लिया है। उन्होंने आलोचना की है। संगठनों का कहना है कि अपर्णा जिस परिवार की बहू हैं, उन्हें यह शोभा नहीं देता। वहीं अन्य का कहना है कि राजपूत समाज इस गाने को लेकर दर्द महसूस कर रहा है और अपर्णा ने उसी गीत पर नृत्य करके संवेदनहीनता दिखाई है।करणी सेना प्रमुख लोकेंद्र सिंह कालवी ने कहा है कि हम एक उद्देश्य के लिए लड़ रहे हैं। राजपूत होकर भी वह इस तरह के गानों पर नृत्य कर रही हैं और उन्हें राजपूत संवेदनाओं का ख्याल तक नहीं है। हम उन्हें वास्तविक घूमर गीत और दूसरे राजस्थानी लोकगीत भेजेंगे, अगर उन्हें इतना ही पसंद है तो।थ्रीडी के लिए सर्टिफिकेट चाहते हैं निर्माता भाषा, मुंबई : विवादित फिल्म पद्मावती के निर्माताओं ने इसके थ्रीडी संस्करण के लिए नई अर्जी दी है। फिल्म को रिलीज के लिए अभी सेंसर बोर्ड से मंजूरी नहीं मिली है। सूत्रों ने बताया कि संजय लीला भंसाली और वायकॉम 18 ने मंगलवार को नई अर्जी सौंपी। पता चला है कि फिल्म की शूटिंग टू डी संस्करण में हुई थी लेकिन फिल्म निर्माताओं ने इसे थ्रीडी में बदलने का फैसला किया क्योंकि थ्रीडी ट्रेलर को सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है।सेंसर बोर्ड में मौजूद एक सूत्र ने बताया कि निर्माताओं ने थ्रीडी प्रमाणपत्र के लिए अर्जी दी है। हमारे पास टूडी अर्जी कुछ समय पहले आई थी। सेंसर बोर्ड से जुड़े लोगों ने बताया कि बोर्ड ने अब तक अर्जी की जांच नहीं की है। इसके बाद ही फिल्म देखी जाएगी। फिल्म निर्माताओं ने सेंसर बोर्ड को अब तक थ्रीडी संस्करण से जुड़ी नई अर्जी सहित कुल तीन अर्जी सौंपी हैं। पहली अर्जी वापस कर दी गई थी क्योंकि इसमें डिसक्लेमर नहीं था। दूसरी अर्जी पर औपचारिक फैसला बोर्ड के पास अब भी विचाराधीन है। ध्यान हो कि यह फिल्म 1 दिसंबर को रिलीज होनी थी लेकिन निर्माताओं ने इसकी रिलीज अनिश्चितकालीन तक स्थगित कर दी।’सरकार को जो पसंद नहीं, उसे तबाह कर सकती है’- एस. दुर्गा के निर्देशक ने लगाया आरोपआईएएनएस, पणजी : अपनी फिल्म ‘एस दुर्गा’ के भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) में प्रदर्शित न हो पाने से हतोत्साहित निर्देशक सनल कुमार शशिधरन ने कहा कि इस घटना ने यह साबित कर दिया है कि सत्ता में रहने वाले उन चीजों को नष्ट करने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं जो उन्हें पसंद नहीं हैं।आईएफएफआई के खत्म होने के एक दिन बाद बुधवार को शशिधरन ने फेसबुक पर लिखा, ‘मैं बिलकुल भी नाखुश नहीं हूं। बल्कि, मैं खुश हूं कि मेरी फिल्म ने उन बहुत सारे लोगों को यह समझने में मदद की है जो पूछते हैं कि अगर संघ सत्ता में आ जाता है तो क्या समस्या है?’ उन्होंने कहा, ‘यह साबित हो गया है कि जो सत्ता में हैं, वे हर उस चीज को नष्ट करने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं जो उन्हें पसंद नहीं है। वे अपने मतलब के लिए कानून का दुरुपयोग कर सकते हैं या न्यायपालिका को अनदेखा कर सकते हैं। वे अपने सहयोगियों को आश्वासन दे सकते हैं कि उनके साथ कुछ भी नहीं होगा भले ही वे अदालतों का पालन न करें। वास्तव में यह एक बहुत ही खतरनाक संदेश है।’ गौरतलब है कि फिल्म महोत्सव में ‘एस दुर्गा’ और ‘न्यूड’ फिल्म दिखाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया था जिसके बाद शशिधरन ने केरल उच्च न्यायालय में अपील की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here