लालू को संसद की गरिमा पर बोलने का नैतिक अधिकार नहीं: सुशील मोदी

0
111

सुशील मोदी ने कहा कि लालू के शासन में विपक्ष को बोलने नहीं दिया जाता था। उनको संसद की गरिमा पर बोलने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है।
पटना । उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने रविवार को ट्वीट कर राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि लालू के शासन में विपक्ष को बोलने नहीं दिया जाता था। विधानसभा के भीतर नेता प्रतिपक्ष के हाथ से कागज छीनने की कोशिश की जाती थी।

आपातकाल के दौरान संसद की सर्वोच्चता पर चोट करने वाली कांग्रेस से हाथ मिलाने वाले लालू को संसद की गरिमा पर बोलने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है। वे आज अगर संसद और विधायिका से बाहर हैं, तो अपने गुनाहों की वजह से।

एक अन्य ट्वीट उन्होंने लिखा कि मणिशंकर अय्यर से लेकर सलमान नियामी जैसे युवा नेता तक प्रधानमंत्री के खिलाफ जितनी घटिया भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं, उससे साफ है कि कांग्रेस के संरक्षण में पली पाकिस्तान परस्त ताकतें सेना की सर्जिकल स्ट्राइक से कितनी तिलमिलायी हुई हैं। कांग्रेस के दोस्त बताएं कि वे सेना के साथ हैं या कश्मीर की आजादी चाहने वालों के साथ।

तीसरे ट्वीट में उपमुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत चार साल में एक करोड़ युवाओं को प्रशिक्षण देने का लक्ष्य है। इसके लिए बिहार सहित देश के 596 जिलों में 8479 केंद्र खोले गए, जिनमें अब तक 52.8 लाख लोगों को प्रशिक्षण मिल चुका है। सरकार, नौकरी मांगने वालों की जगह नौकरी देने वाले युवाओं की पीढ़ी पैदा करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here