मेरठ में बसपा मेयर की शपथ समारोह में वंदेमातमरम पर महाभारत

0
119

भाजपा ने किया वंदेमातरम का गान, मेयऱ, मेरठ में बसपा मेयर की शपथ समारोह में वंदेमातमरम पर महाभारत और मुस्लिम पार्षद बैठे रहे नहीं किया गान, लगाए जय भीम के नारे

– शपथ स्थल पर लगाए गए बसपा के पोस्टरों पर भी भाजपा का जोरदार हंगामा, सरकारी कार्यक्रम बताकर कई पोस्टर बैनर फाड़े

– विरोध के चलते निगम कर्मचारियों ने हटाए होर्डिंग, मेयर बोली-होर्डिंग फाड़ना गलत, हटाए जा सकते थे

मेरठ। मेरठ में मेयर का शपथ ग्रहण समारोह में वंदेमातरम के गान को लेकर महाभारत हो गया। सफत शुरू होने से पहले ही भाजपा ने जमकर हंगामा किया। शपथ शुरू करने को मेयर के खड़े होते ही भाजपा पार्षदों और नेताओं ने वंदेमातरम का गान शुरू कर दिया। बीएसपी की मेयर और बसपा समेत गैर भाजपा पार्षद और अतिथियों ने गान नहीं किया और बैठे रहे। जयभीम और अल्लाहुआकबर के नारे लगने लगे। इससे पहले शपथ स्थल पर बसपा के होर्डिंग और फ्लैक्स लगने का बजेप ने विरोध कर दो फ्लैक्स फाड़ दिए। इसको लेकर भी दोनों पक्ष आमने सामने आ गए। शपथ ग्रहण हंगाने के बीच ही पूरा हुआ।

मेरठ में बसपा की मेयर सुनीला वर्मा चुनी गई हैं। मंगलवार को टाउन हाल में शपथ ग्रहण के लिए एक बजे का वक्त तय था। कमिश्नर को शपथ दिलानी थी। पपले से लग रहा था कि वंदेमातरम गान को लेकर शपथ के दौरान बखेड़ा होगा। टकराव के चलते एसपी सिटी मानसिंह चैहान दो कंपनी पीएसी, पांच सीओ, 16 एसओ, 200 पुलिसकर्मियों और तीन मजिस्टेaट के साथ मुस्तैद रहे। करीब साढ़े बारह बजे भाजपा के पार्षद एक साथ शपथ स्थल पहुंचे। उन्होंने मुख्य द्वार से सपथ हाल तक दोनों तरफ बसपा की तरफ से लगाए गए बड़े बड़े होर्डिंग का विरोध किया। कहा कि यह बसपा का नहीं सरकारी प्रोग्राम हैं। इन फ्लैक्स पर मायवती, मेयर सुनीता वर्मा, पूर्व विधायक योगेश वर्मा, पूर्व मंत्री हाजी याकूब कुरैशी और सभासदों के फोटो थे। शपथ लेने पर मेयर को बधाई संदेश लिखा था। भाजपा पार्षदों ने जयश्रीराम और वंदेमातरम के नारे लगाकर फ्लैक्स को हटाने की मांग निगम अफसरों की करने लगे। काफी देर हंगामे के चलते बीजेपी के वर्करों ने दो फ्लैक्स फाड डाले। इसके जबाव में बसपा की तरफ से भीम के नारे लगने लगे। विवाद बढ़ता देख अफसरों ने निगम कर्मचारियों को फ्लैक्स हटने के निर्देश दिए। कर्मचारियों ने आनन फानन में उतारते समय फ्लैक्स फाड़ दिए। फ्लैक्स फाड़ने की जानाकरी मिलते ही मेयर सुनीता वर्मा ने अफसरों को आड़े हाथ लिया। कहा कि पूरे प्रदेश में जहां जहां भाजपा के मेयर जीते हैं वहां कार्ड से लेकर भवन तक भगवा कर दिए गए, यहां बसपा के बधाई संदेश के प्लैक्स फा फाड़े जा रहे हैं। पक्षपात सहन नहीं किया जाएगा। इन फ्लैक्स को उतारा जा सकता था।

शपथ ग्रहण से पहले भी बवाल

कमिश्नर प्रभात कुमार शपथ स्थल पर पहुंच गए थे। मंच पर कमिश्नर ने सोफे से खड़ा होकर जैसे ही मेयर सुनीता वर्मा को शपथ लेने के लिए संदेश दिया, तभी बीजेपी के सार पार्षद और भाजपा की तरफ से आए अतिथियों ने खड़े होकर वंदेमातरम का गान शुरू कर दिया। वंदेमातरम का गान शुरू होने पर कोई कुछ समध नहीं सका। कमिश्नर खड़े रहे। मेयर सुनीता वर्मा, उनके पति पूर्व विधायक योगेश वर्मा, बसपा और दूसरे दलों के साथ मुस्लिम पार्षद, अतिथि और उनके समर्थक सोफे और कुर्सियों पर बैठे रहे। वंदेमातम के दौरान हाल में भाजपा के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष लक्ष्मीकांत बाजपेयी, विधाय सत्यप्रकाश अदग्रवालस पूर्व मेयर हरिकांत अहलूवालिया आदि काफी भाजपा नेता भी मौजूद रहे। भाजपा के वंदेमारतम गान करने के बाद कमिश्नर ने मेयर को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। भाजपा पार्षदों ने कई बार हर हर महादेव के नारे भी लगाए और कुर्सियों पर खड़े हो गए। इस दौरान जीय भीम और अल्लाहु अकबर के नारे लगते रहे। उसके बाद मेयर ने सभी 90 पार्षदों को शपथ दिलाई। शपथ ग्रहण का प्रोग्राम सिर्फ 15 मिनट में ही पूरा कर लिया गया। भाजपा पार्षदों का कहना था कि बिना वंदेमातरन के गान के आगे भी बोर्ड बैठक नहीं होने दी जाएगी। जबकि गैरभाजपा पार्षदों का साफ कहना था कि निगम एक्ट में वंदेमातरम के गान का उल्लेख नहीं हैं। उसे हम नहीं गाएंगे। राष्ट्रगान का हैं। उसको गाएंगे।

……

वंदेमातरम गान से 15 मिनट रुकी मेयर की शपथ, कमिश्नर को देनी पड़ी नसीहत

कई दिनों से शहर में चर्चा का विषय बना नगर निगम के नवनिर्वाचित पार्षदों और मेयर का शपथ ग्रहण समारोह मंगलवार को जबरदस्त हंगामे के बीच सिर्फ 15 मिनट में संपन्न हो गया। दरअसल, भाजपा और गैरभाजपा दोनों ही गुट सुबह बैठक कर रणनीति बनाने के बाद शपथ लेने आए पहुंचे थे। उन्होंने भाजपा की तरफ इशारे करते हुए हुआ कि जनता के फैसले का सम्मान करना चाहिए। दूसरे लोगों से भी शामीलनता का परिचय देने का सलाह दी। उन्होंने सभी को एकता के साथ आगे बढ़ने की नसीहत दी। उसके बाद माहौल में नरमी आई। तब कमिश्नर ने मेयर सुनीता वर्मा को शपथ दिलाई। इस दौरान सभी लोग शांत रहे। नगर निगम में बीजेपी के 36, बसपा के 28 और अन्य दलों व निर्दलीय 26 कुल 90 पार्षदों को शपथ ग्रहण कराई।

…..

सरकारी कार स्वीकारी, टकराव की आई नौबत

मेयर ने सपथ के बाद सरकारी अंबेसडर कार को स्वीकर कर लिया। सुनीत वर्मा सरकारी कार से ही घर के लिए रवाना हुई। दरअसल, सुनीता वर्मा को जीतने के बाद ही निगम की तरफ से सरकारी कार मुहैया करा दी गई थी, लेकिन मेयर ने उसे यह कहकर लौटा दिया था कि इसका सुद्धीकरण कराओ, भाजपा के लोगों ने इसे गंदा कर दिया हैं।

…..

हम सौ फीसदी नगर निगम संविधान के तहत करेंगे। उसका उल्लंघन न करेंगे न चाहेंगे। हमार एजेंडा विकास हैँ। शहर कैसे अच्छा बने, सुंदर बने। इसके लिए काम करना हैं। भाजपा ने दस साल में कछ नहीं किया। अब भी वह ऐसे ही विवाद खड़ा करना चाहती हैं। हम उनकी साजिश को कामयाब नहीं होने देंगे। हर नागरिक को लगेगा कि निगम उनका है।

सुनीता वर्मा, मेयर, नगर निगम मेरठ

….

भाजपाइयो ने फूंका मेयर पति योगेश वर्मा का पुतला

– धर्म परिवर्तन कर मुस्लिम बनने की दी सलाह

मेरठ। वंदेमातरम पर मेयर पति और बसपा के पूर्व विधायक योगेश वर्मा की तरफ से लगातार की जा रही बयानबाजी के विरोध में भाजपाइयों ने कमिश्नरी चैराहे पर उनका पुतला फूंका। भाजपाइयों ने उनको धर्म परिवर्तन कर मुस्लिम बन जाने की सलाह दी। भाजपा झुग्गी-झोंपड़ी प्रकोष्ठ के प्रदेश महामंत्री राजकुमार कौशिक के नेतृत्व में कमिश्नरी चैराहे पर भाजपाइयों ने हस्तिनापुर से बसपा के पूर्व विधायक योगेश वर्मा का पुतला फूंका। मुख्यमंत्री के नाम सौंपे ज्ञापन में भाजपाइयों ने आरोप लगाया कि संप्रदाय विशेष के लोगों का नेता बनने के लिए बसपा मेयर सुनीता वर्मा के पति योगेश बेवजह राष्ट्रीय गीत वंदेमातरम का विरोध कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here