गुजरात के बाद अब एक और झटके की आशंका में लालू, जेल गए तो हो सकते ये परिणाम

0
709

चारा घोटाला के तीन मामलों में 23 दिसंबर को आने वाले फैसले में अगर लालू यादव जेल गए तो इसका राजद पर गहरा असर पड़ेगा। गुजरात में कांग्रेस की हार के बाद यह लालू की नई मुश्किल होगी।
पटना । गुजरात चुनाव में कांग्रेस की हार से बिहार में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को झटका लगा है। उनकी मुश्किलें आगे भी कम होतीं नहीं दिख रहीं। अब बिहार-झारखंड के बहुचर्चित चारा घोटाला के तीन मामलों में 23 दिसंबर को बड़ा फैसला आने वाला है। इनमें लालू भी आरोपी हैं। अगर लालू को कोर्ट दोषी करार देती है तो बिहार की राजनीति में इसके गहरे परिणाम तय हैं। संभव है कि लालू के राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) में भी उथल-पुथल मच जाए।
लालू को दोषी करार दिए जाने के बाद बिहार में कांग्रेस के साथ उनका ‘महागठबंधन’ प्रभावित हो सकता है। लालू की कांग्रेस को डॉमिनेट कर सकने की स्थिति जाती रहेगी। ऐसा इसलिए भी कि अब कांग्रेस की कमान कभी भ्रष्‍टाचार के मुद्दे पर लोकसभा में आर्डिनेंस फाड़ चुके राहुल गांधी के हाथों में है, जिन्‍हें लालू आगामी लोकसभा चुनाव में विपक्ष का नेता मानने से फिलहाल इन्‍कार कर रहे हैं। उधर, गुजरात में 80 सीटें हासिल कर कांग्रेस ने भाजपा के सामने बड़ी चुनौती भी खड़ी कर दी है।
बिहार में लालू की स्थिति गुजरात चुनाव में हार के बाद कांग्रेस की बिहार में रणनीति पर भी निर्भर करती है। यदि गुजरात में कांग्रेस जीत जाती तो वह बिहार में राजद पर भारी पड़ सकती थी। खासकर, लालू के जेल जाने की स्थिति में कांग्रेस का कद और बढ़ता। हालांकि, गुजरात में कांग्रेस हार कर भी अपना कद बढ़ाने में कामयाब रही है। वह गुजरात भाजपा के विकल्‍प में एक सशक्‍त पार्टी के रूप में नजर आई है।
बिहार की बात करें तो लालू की हैसियत में घटत-बढ़त से कांग्रेस का भी प्रभावित होना तय माना जा रहा है। कांग्रेस में लालू के समर्थन व विरोध में दो गुट हावी हैं। पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्‍यक्ष अशोक चौधरी लालू विरोधी गुट के अगुआ माने जाते हैं तो कार्यकारी प्रदेश अध्‍यक्ष कौकब कादरी को लालू का समर्थक माना जाता है। अंदरखाने के सूत्र बताते हैं कि कांग्रेस के करीब 18 विधायक जदयू व भाजपा के संपर्क में हैं। लालू जेल गए तो वे ‘भ्रष्‍टाचार विरोध’ को मुद्दा बनाकर पार्टी छोड़ सकते हैं।
गुजरात का चुनाव परिणाम आने के बाद कांग्रेस के प्रभारी अध्यक्ष कौकब कादरी व पूर्व अध्‍यक्ष अशोक चौधरी की प्रतिक्रियाएं काबिले गौर हैं। कदारी ने गुजरात में कांग्रेस के प्रदर्शन बताते हुए इसका श्रेय राहुल गांधी को दिया। अशोक चौधरी भी राहुल के नेतृत्‍व में आस्‍था जताते हैं, लेकिन गुजरात व हिमाचल में कांग्रेस की हार को पार्टी की रणनीति की विफलता भी बताते हैं। उन्‍होंने कहा कि नए सिरे से नई रणनीति बनाकर कांग्रेस को भविष्य की तैयारी करनी होगी।

बकौल अशोक चौधरी, यह भविष्‍य की तैयारी (मिशन 2019) बिहार में भी होगी। स्‍पष्‍ट है, भविष्‍य की तैयारी में भ्रष्‍टाचार एक मुद्दा हो सकता है। कांग्रेस का एक धड़ा भ्रष्‍टाचार के मुद्दे पर राजद से अलग होने की बात कर सकता है।
जहां तक राजद की बात है, पार्टी में लालू प्रसाद यादव की हैसियत ‘वन मैन शो’ वाली है। पार्टी उनके आगे-पीछे है। जेल जाने की स्थिति में भी वे सुप्रीमो तो बने ही रहेंगे, लेकिन पार्टी में असंतोष के सुर फूट सकते हैं। जदयू सूत्रों की मानें तो लालू को सजा होनी तय है। इसके बाद राजद में दरार पड़ जाएगी। राजद के असंतुष्‍ट नेता मौके की तलाश में हैं।
जदयू जो भी दावा करे, राजद के कुछ बड़े नेताओं ने कहा कि तेजस्वी यादव को लालू प्रसाद यादव ने सर्वसम्‍मति से कमान सौंपी है। इस मुद्दे पर लालू ने भी बताया कि पार्टी में सबकी इच्‍छा थी कि तेजस्‍वी को आगे किया जाए। तेजस्‍वी ने अपनी योग्‍यता साबित कर दी है। उन्‍होंने इस मुद्दे पर पार्टी में किसी संकट से इन्‍कार किया। विपक्ष की आशंका को खारिज करते हुए उन्‍होंने राजनीति से संन्‍यास की किसी संभावना से भी इन्‍कार किया।
ऐसा नहीं कि लालू के सामने जेल जाने का संकट पहली बार आया है। लालू पहले पत्‍नी को मुख्‍यमंत्री बनाकर चारा घोटाले में ही जेल गए थे। लेकिन, उस वक्‍त राजद सत्‍ता में थी। लालू अंतिम बार अक्टूबर 2013 में जेल गए थे। उन्‍होंने अपनी राजनीतिक वापसी करते हुए नीतीश के साथ गठबंधन किया और जीत हासिल की।
लेकिन, आज की परिस्थितियां भिन्‍न हैं। महागठबंधन से जदयू हट चुका है। नीतीश अब भाजपा के साथ बिहार में सरकार चला रहे हैं। भाजपा व जदयू के निशाने पर लालू ही हैं। केंद्र की विभिन्‍न जांच एजेंसियां लालू पर लगे भ्रष्‍टाचार के मामलों की जांच कर रही हैं। इस बीच अगर चारा घोटाला में लालू जेल गए तो उनके सामने राजद व महागठबंधन को एकजुट रखते हुए अपनी हैसियत बरकरार रखने की बड़ी चुनौती खड़ी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here