नीतीश कुमार के नेतृत्‍व में कैबिनेट की बैठक संपन्‍न हुई।

0
120

नीतीश कुमार के नेतृत्‍व में कैबिनेट की बैठक संपन्‍न हुई। प्रदेश के प्लस टू स्कूलों में अंग्रेजी, गणित, विज्ञान, भौतिकी जैसे विषयों की शिक्षा अतिथि शिक्षकों के जिम्मे होगी।
पटना । प्रदेश के प्लस टू स्कूलों में अंग्रेजी, गणित, विज्ञान, भौतिकी, रसायन शास्त्र जैसे विषयों की शिक्षा अतिथि शिक्षकों के जिम्मे होगी। कुछ चुनिंदा विषयों के शिक्षकों की कमी को देखते हुए सरकार ने चार हजार से अधिक अतिथि शिक्षकों की सेवा लेने का फैसला किया है।

मंगलवार को राज्य मंत्रिमंडल ने शिक्षा विभाग के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। अब विद्यालय छात्रवृति और मुख्यमंत्री मेधावृति योजना, प्री मैट्रिक छात्रवृति और मुख्यमंत्री मेधावृति योजना की छात्रवृति शिक्षा विभाग द्वारा डीबीटी (डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर) के माध्यम से लाभुकों के बैंक खाते में ट्रांसफर की जाएगी। यह योजना वित्तीय वर्ष 2018-19 से प्रभावी होगी।

मंत्रिमंडल की बैठक के बाद कैबिनेट के प्रधान सचिव ने बताया कि माध्यमिक शिक्षा अंतर्गत जिला परिषद एवं विभिन्न नगर निकायों में स्थित राजकीय, राजकीयकृत तथा माध्यमिक शिक्षा अभियान के तहत उत्क्रमित किए गए उच्च माध्यमिक स्कूलों में विभिन्न विषयों के शिक्षकों के तकरीबन 4257 पद रिक्त हैं।

रिक्त पदों में अंग्रेजी, गणित, विज्ञान, भौतिकी, रसायन शास्त्र, प्राणी शास्त्र एव वनस्पति शिक्षकों के पद हैं। इन विषयों के शिक्षकों की कमी की वजह से छात्रों की पढ़ाई बाधित हो रही है। सरकार ने रिक्त पदों के लिए अतिथि शिक्षकों की सेवा लेने का फैसला किया है। सरकार ने अतिथि शिक्षकों के लिए पद वार मानेदय निर्धारित किया है। सहायक प्राध्यापकों को प्रति घंटी एक हजार रुपये मानदेय मिलेगा।

यह अधिकतम 35 हजार रुपये महीना होगा। इसी प्रकार व्याख्याता को आठ सौ रुपये प्रति घंटी अधिकतम 30 हजार रुपये महीना, अनुदेशकों और प्रयोगशाला सहायकों को चार-चार सौ रुपये प्रतिघंटी या महीने में अधिकतम तेरह और चौदह हजार का मानदेय दिया जा सकेगा।

किस पद पर कितने शिक्षकों की ली जाएगी सेवा
अंग्रेजी के 1041
गणित के 791
भौतिकी के 1024
रसायन शास्त्र के 974
प्राणी शास्त्र के 137
वनस्पति विज्ञान के 290

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here