VIDEO : पुतिन का ‘मिशन सीरिया’कम्पलीट! 00:18 / 01:50 Related Videos News 01:32 ऐसे बरकरार रखें आर्टिफिशियल ज्वेलरी की चमक News 00:54 कॉलोनी में घुसा गुलदार, पांच घंटे तक रही दहशत News 01:30 गंभीर बीमारी के लिए इंश्योरेंस कवर लेना कितना जरूरी? News 01:37 Throwback 2017 विराट समेत इन खिलाडियों का भी बजा बैंड News 01:29 देखें अमेरिकी फाइटर जेट ने रहस्यमय चीज का पीछा किया News 01:31 लंबे समय से बंद पड़ा है बैंक अकाउंट, ऐसे करें एक्टिव 2जी मामले के जज ओपी सैनी ने ही लाल किले पर हमले के आरोपी को दी थी फांसी

0
176

2जी मामला देश के सबसे बड़े घोटाले के रूप में सामने आया था। गुरुवार को सीबीआइ की विशेष अदालत ने उसे एक झटके में आरोपियों को बरी कर खारिज कर दिया।

नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। 2जी घोटाले में फैसला सुनाने वाले सीबीआइ विशेष न्यायाधीश ओपी सैनी ने 22 दिसंबर 2000 को लाल किले पर हमला करने के दोषी व मुख्य आरोपी लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी मोहम्मद आरिफ उर्फ अशफाक को फांसी की सजा सुनाई थी। ओपी सैनी देश के उन चुनिंदा जजों में से हैं, जो 24 घंटे वाई सिक्योरिटी में रहते हैं।

दिल्ली पुलिस में सब इंस्पेक्टर के तौर पर अपना करियर शुरू करने वाले ओपी सैनी का दिल्ली न्यायिक सेवा में 1980 में चयन हुआ था। मूलरूप से हरियाणा के रहने वाले ओपी सैनी (58) 2जी घोटाला, 2010 कॉमनवेल्थ घोटाला के अलावा सरकारी अधिकारियों के खिलाफ चल रहे भ्रष्टाचार समेत कई हाई प्रोफाइल मामलों की सुनवाई कर रहे हैं।गौरतलब है कि 2जी मामला देश के सबसे बड़े घोटाले के रूप में सामने आया था। गुरुवार को सीबीआइ की विशेष अदालत ने उसे एक झटके में आरोपियों को बरी कर खारिज कर दिया। जांच एजेंसियों की मंशा पर सवाल खड़ा करते हुए न्यायमूर्ति ओपी सैनी ने पूर्व संचार मंत्री ए राजा और द्रमुक नेता कनीमोरी समेत सभी आरोपियों को बरी कर दिया। सीबीआइ और ईडी अब इस फैसले के खिलाफ हाई कोर्ट में अपील करने की बात कर रहा है। जांच एजेंसियों के मुताबिक, अदालत को साक्ष्य पूरे दिए गए थे लेकिन उन पर गौर ही नहीं किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here