जदयू के पूर्व नेता शरद यादव ने तीन तलाक पर कह दी ये बड़ी बात, जानिए

0
320

जदयू के पूर्व नेता शरद यादव ने तीन तलाक पर बड़ा बयान देते हुए कहा है कि इसपर विधेयक लाकर सरकार अपनी मर्जी दूसरोें पर थोपना चाह रही है। इस कानून पर विचार-विमर्श होना चाहिए था।

पटना । जदयू के पूर्व नेता शरद यादव ने तीन तलाक मामले पर केंद्र सरकार पर आरोप लगाया है कि पीएम मोदी इस्लामी विद्वानों से विचार-विमर्श किये बगैर हड़बड़ी में तीन तलाक पर विधेयक लाकर अपनी मर्जी थोपना चाह रहे हैं। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि तीन तलाक पर कोई भी कानून इस्लामी विद्वानों से विचार-विमर्श पर आधारित होना चाहिए।

बता दें कि इन दिनों शरद यादव बिहार के कई जिलों में संवाद यात्रा के लिए निकले हैं और इस दौरान वे लोगों से मिलकर अपनी बात रख रहे हैं। इसी क्रम में शरद यादव गुरुवार को बिहार के किशनगंज जिले में थे। उनके साथ जदयू के पूर्व नेता अली अनवर भी थे।शरद ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि तीन तलाक पर कोई भी कानून इस्लामी विद्वानों के साथ विचार-विमर्श पर आधारित होना चाहिए। लेकिन लोकसभा में विधेयक पेश करने से पहले ऐसा कुछ भी नहीं किया गया। ये सरकार अब सदन में विधेयक पेश कर जनता पर अपनी मर्जी थोपना चाह रही है और अपने बचाव में इधर-उधर की बातें कर रही है, जो सही नहीं है।

वहीं अली अनवर ने तीन तलाक पर कदम उठाने से पहले मोदी सरकार की ओर से ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को विश्वास में नहीं लेने पर नाराजगी जाहिर की। भाजपा व पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए शरद यादव ने कहा कि हर साल एक करोड़ युवाओं को रोजगार, हर व्यक्ति को 15 लाख, किसानों को फसल का दाम दोगुना देने का वायदा क्यों नहीं पूरा करते़?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here