नए साल में स्मार्ट बनेगी पुलिस, ऐसे करेगी नक्सली समस्या का समाधान

0
215

बिहार पुलिस अब नए साल में नए तेवर में दिखेगी, यानि स्मार्ट पुलिस के रूप में दिखेगी। पुलिस अब नक्सली समस्या से निबटने के लिए पूरी तरह से तैयार रहेगी।

जमुई । बंदूक से मुकाबला करने के बाद सरकार ने नक्सलियों से निपटने के लिए समाधान योजना लांच की है। इसके तहत नक्सली समस्या खत्म करने की रणनीति में थोड़ा बदलाव किया गया है। सरकार ने समेकित योजना बनाते हुए सभी जिलों के डीजीपी को भी इसके लिए पत्र लिखा है।

योजना का मकसद नए विचारों को लाते हुए नक्सली समस्या को समाप्त करना है। इसी साल मई में छत्तीसगढ़ के सुकमा में 25 सीआरपीएफ जवान की मौत के बाद सरकार की काफी किरकिरी हुई थी। तब नक्सल प्रभावित 10 राज्यों के सीएम और डीजीपी की बैठक हुई।बैठक में सरकार ने समाधान स्कीम लांच की। योजना के तहत राज्यों की पुलिस को स्मार्ट बनाकर उन्हें आधुनिक हथियारों से लैस किया जाएगा। योजना के तहत विभिन्न राज्यों की पुलिस व केंद्रीय बलों के बीच समन्वय स्थापित किया जाएगा। पुलिस नक्सलियों के चैनल को तोडऩे की कवायद शुरू कर चुकी है।
नक्सलियों की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए ड्रोन का भी इस्तेमाल किया जाएगा। इसके लिए जमीनी स्तर पर मूलभूत संरचनाओं और सुरक्षा का मूल्यांकन करने के लिए सभी एजेंसियों से कहा गया है। इस काम का मूल्यांकन कर हर 15 दिन में आठ सूत्री रिपोर्ट नक्सल प्रभावित इलाकों के एसपी द्वारा भेजी जा रही है।
जब्त होगी 25 नक्सलियों की संपत्ति
नए साल में योजना के तहत 25 नक्सलियों की संपत्ति जब्त की जाएगी। इनमें जमुई जिले के भी छह नक्सली शामिल हैं। जमुई में पिंटू राणा, सिद्धू कोड़ा, अरविंद यादव, प्रवेश दा, बालेश्वर कोड़ा व दरोगी यादव की संपत्ति जब्त की जाएगी।
एरिया कमांडर सुरंग यादव का आत्मसमर्पण, मंटू खैरा की मुठभेड़ में मौत व पिंटू राणा के घर की कुर्की भी इसी योजना से जोड़कर देखी जा रही है। नक्सलियों को आर्थिक मदद करनेवालों पर भी नकेल कसी जाएगी। ऐसे 200 ठेकेदारों, इंजीनियरों, चिकित्सकों, पत्रकारों व अधिवक्तों को चिह्नित किया गया है।
पिंटू राणा और अरविंद हैं टारगेट पर
समाधान की सफलता के लिए पुलिस ने जोनल कमांडर पिंटू राणा और सात जिलों के प्रवक्ता अरविंद यादव उर्फ अविनाश के समर्पण की कवायद शुरू करा दी है। पिंटू राणा लगभग पुलिस की जद में आ चुका है। 24 घंटे पुलिस उसकी हर गतिविधि पर नजर रख रही है। समर्पण कराने के लिए अरविंद यादव के नजदीकी मित्रों का भी सहारा लिया जा रहा है। पुलिस ने उसके पिता और ससुर पर भी इसके लिए दबाव बनाया था।
नक्सलियों पर है नजर
जमुई के एसपी जयंतकांत ने कहा कि नक्सली समस्या पर नियंत्रण पाने के लिए कई योजनाएं हैं। पुलिस नक्सलियों की हर गतिविधि पर नजर रख रही है। नक्सलियों को मदद करनेवालों को भी बख्शा नहीं जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here