रिलायंस जियो खरीदेगी आर कॉम का वायरलेस कारोबार

0
196

आर कॉम अपना वायरलैस कारोबार रिलायंस जियो को बेचने को तैयार हो गई है

नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। धीरूभाई अंबानी के जन्मदिन के मौके पर उनके दोनों बेटों मुकेश और अनिल अंबानी के बीच एक बड़ा सौदा हुआ है। इस सौदे के तहत मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जियो अनिल अंबानी की कंपनी आर कॉम का वायरलैस कारोबार खरीदेगी। दोनों कपनियों के बीच हुए इस करार के तहत आर कॉम, जियो को 4जी स्पेक्ट्रम और 43000 टावर बेचेगी। आर कॉम का कहना है कि वो कारोबार बेचकर कंपनी का कर्ज चुकाएगी।

रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड (आरजेआईएल) रिलायंस इंडस्ट्री लिमिटेड की एक सहायक कंपनी है। उसने आज घोषणा की है कि जियो ने रिलायंस कम्युनिकेशंस लिमिटेड (“आरकॉम”) के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं जिसके तहत वह आर-कॉम और उसकी सहयोगी कंपनियों की संपत्तियों का अधिग्रहण करेगी।

आर-कॉम के कर्जदारों की ओर से कहा गया था कि आर-कॉम की संपत्ति की बिक्री की जाए, जिसके लिए उन्होंने एसबीआई कैपिटल मार्केट लिमिटेड को इस प्रक्रिया की शुरुआत के लिए चुना था। इस पूरी प्रक्रिया की देखरेख प्रतिष्ठित उद्योग विशेषज्ञों के एक स्वतंत्र समूह की ओर से की जाएगी। आरजेआईएल दो चरण की बोली प्रक्रिया में सफल बोलीदाता के रूप में उभरा है।

इस समझौते के बाद आरजेआईएल और इसके नॉमिनी आर-कॉम और इसके सहयोगियों से चार श्रेणियों में एसेट्स (संपत्तियों) का अधिग्रहण करेंगे। टॉवर, ऑप्टिक फाइबर केबल नेटवर्क (ओएफसी) और स्पेक्ट्रम एंड मीडिया कन्वर्जेंस नोड्स (एमसीएन)। इन परिसंपत्तियों की प्रकृति रणनीतिक हैं और इसके आरजेआईएल की ओर से वायरलेस एवं फाइबर टू होम एंड एंटरप्राइज सेवाओं के बड़े पैमाने पर रोल आउट करने में काफी योगदान देने की उम्मीद है।

बिजनेस बेचकर कर्ज चुकाएगी आर-कॉम:

अनिल अंबानी ने मंगलवार को एक प्रेस कांफ्रेंस कर यह साफ किया था कि आर कॉम के कर्ज को मार्च तक घटाकर कर 6000 करोड़ रुपए दिया जाएगा। आपको बता दें कि आर कॉम पर मौजूदा समय में 45,000 करोड़ रुपए का कर्ज है। इस बीच यह सौदा आर कॉम के लिए राहत की खबर लेकर आया है। आर कॉम का कहना है कि वो अपने 4जी स्पेक्ट्रम और 43000 टावर कारोबार की बिक्री करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here