बदमाशों-घुसपैठियों को पकड़वाएगा ‘स्मार्ट आई’, IIT रुड़की ने तैयार की CCTV मोबाइल एप्लिकेशन तकनीक

0
116

आईआईटी रुड़की के सिविल विभाग ने सीसीटीवी कैमरे से जुड़ी एक ऐसी तकनीक ईजाद की है जो देश के साथ साथ घरों की सुरक्षा के काम आएगी। आईआईटी ने इस ‘स्मार्ट आई तकनीक’ का पेटेंट भी करा लिया है। सिविल इंजीनियरिंग विभाग के अध्यक्ष प्रो. कमल जैन का कहना है कि उन्होंने देश सीमा पर इस तकनीक का इस्तेमाल करने के लिए रक्षा मंत्रालय को पत्र भेजा है।
प्रो. जैन का कहना है कि घरों, दफ्तरों और अन्य प्रतिष्ठानों में सुरक्षा के लिए लगाए जाने वाले सीसीटीवी कैमरे में कई कमियां होती हैं। सीसीटीवी का डाटा भी सुरक्षित नहीं रहता है और कई बार शातिर अपराधी खुद को बचाने के लिए इसके सारे उपकरण तोड़ देते हैं या हार्ड डिस्क निकालकर ले जाते हैं। इस समस्या को दूर करने के लिए आईआईटी ने यह सीसीटीवी मोबाइल एप्लिकेशन विकसित की है।
लिफ्ट के दरवाजे में फंसा महिला का पैर,फिर हुआ दर्दनाक हादसा
कैसे काम करती है यह तकनीक
प्रो. जैन ने बताया कि इस तकनीक के जरिए सीसीटीवी कैमरे को इंटेलिजेंस कैमरे के रूप में तब्दील किया गया है। इस तकनीक से जुड़ा सीसीटीवी कैमरा जहां लगा होगा, वहां की तस्वीर खींच कर तुरंत एमएमएस और ईमेल से उस मोबाइल तक पहुंचा देगा, जो इस कैमरे से जुड़े होंगे। उन्होंने बताया कि सीसीटीवी कैमरे में यह स्मार्ट आई तकनीक इंस्टाल की जा सकेगी। इसे एक ही बार ईमेल और मोबाइल से जोड़ा जाएगा।
यूपी कैबिनेट: निकायों के 2500 पदों पर भर्ती अधीनस्थ सेवा आयोग करेगा
पंद्रह हजार आएगा खर्च
अगर आपने घर में सीसीटीवी कैमरा लगाया है तो पंद्रह हजार रुपए खर्च कर आप अपने सीसीटीवी को इस तकनीक से लैस कर सकते हैं। प्रो. जैन ने बताया कि इस तकनीक को पेटेंट करा लिया गया है। आईआईटी में आम लोगों के लिए यह तकनीक उपलब्ध है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here