लालू का पीछा नहीं छोड़ेगा सजा और मुकदमा, इन मामलों में भी आना है फैसला

0
141

लालू यादव को कोर्ट और मुकदमे से जल्‍द छुटकारा नहीं मिलने वाला है। रांची की विशेष अदालत में तीन तथा पटना की अदालत में एक मामले में लालू अभियुक्त हैं।

पटना । चारा घोटाले के जिस मामले में लालू प्रसाद जेल में बंद हैं और गरुवार को सजा की मियाद सुनेंगे, उसके अलावा भी कई और मुकदमे ऐसे हैं, जिनसे पीछा नहीं छूटने वाला। देवघर कोषागार से 89.4 लाख रुपये की कपटपूर्ण निकासी मामले में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को सजा सुनाएगी। इस मामले में विगत 23 दिसंबर को कोर्ट ने लालू प्रसाद को दोषी करार दिया था।

लालू के खिलाफ सीबीआइ ने चारा घोटाले में जो कुल छह मामले दर्ज किए थे, उनमें चार अन्य मामलों में भी देश की प्रीमियम जांच एजेंसी ने चार्जशीट दाखिल कर रखा है। इस साल मई तक सभी मामलों में निचली अदालत का फैसला आ जाएगा।

एक साल में निपटाने हैं चारा घोटाले के सभी मुकदमे

पिछले साल मई में सर्वोच्च न्यायालय ने चारा घोटाले के सभी मामलों को अगले एक साल अंदर निपटाने का आदेश दिया था। लालू प्रसाद के खिलाफ जो मामले फिलहाल सीबीआइ की विशेष अदालत में लंबित हैं, उनमें तीन रांची स्थित सीबीआइ की विशेष अदालत में तथा एक पटना में सीबीआइ की विशेष अदालत में चल रहा है। इन सभी चार मामलों की सुनवाई डे-टूडे के आधार पर चल रही है।

मंगलवार को ही पटना स्थित सीबीआइ की विशेष अदालत ने रांची के होटवार जेल में बंद लालू प्रसाद के खिलाफ प्रोडक्शन वारंट जारी किया है। इस मामले के ट्रायल के लिए लालू प्रसाद को पटना लाया जाएगा।

ये हैं मुकदमे

लालू प्रसाद के खिलाफ लंबित चार मामलों में तीन मामले जो रांची की विशेष अदालत में चल रहे हैं, उनमें आरसी-68 (ए)/96 मामला चाईबासा कोषागार से 37 करोड़ रुपये की अवैध निकासी की है। इसके अलावा आरसी-38/96 और आरसी-27 (ए)/96 में भी रांची की विशेष सीबीआइ अदालत अगले एक-दो माह में सजा की बिंदु पर पहुंचने वाली है।

आरसी-38 (ए)/96 मामला दुमका कोषागार से साढ़े तीन सौ करोड़ रुपये की अवैध निकासी का है। इस मामले में भी लालू प्रसाद के साथ पूर्व सांसद जगदीश शर्मा, पूर्व विधायक ध्रुव भगत, पूर्व सांसद डॉ. आरके राणा समेत कुल दो सौ लोगों को नामजद अभियुक्त बनाया गया है। जिसमें पूर्व आइएएस अधिकारी बेक जुलियस, के अरुमुगम समेत पशुपालन विभाग के 65 तत्कालीन अधिकारी भी शामिल हैं।

47 लाख फर्जी निकासी का मामला चल रहा पटना में

चारा घोटाले में लालू प्रसाद के खिलाफ पटना स्थित सीबीआइ की विशेष अदालत में भी एक मामला आरसी-63 (ए)/96 लंबित है। इस मामले का ट्रायल भी डे-टूडे के आधार पर चल रहा है। यह मामला भागलपुर और बांका कोषागार से 47 लाख की फर्जी निकासी है। इसमें भी जगदीश शर्मा, डॉ. आरके राणा. ध्रुव भगत साजिशकर्ताओं में शामिल हैं। सीबीआइ की विशेष अदालत ने आरसी-64 (ए)/96 में लालू प्रसाद को पांच साल की कैद की सजा सुना रखी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here