जज ने जब लालू से कहा- हारमोनियम बजाएं, पढ़ें, कोर्ट में और क्या हुई बातचीत

0
107

चारा घोटाले के मामले में दोषी करार दिए जाने के बाद भी लालू का विनोदी अंदाज कम नहीं हुआ है। गुरुवार को कोर्ट में पेश होने के बाद लालू ने कहा- हुजूर जेल में कई तरह की परेशानी है। जेल में ठंड बहुत लगती है। कंबल वैगरह तो है, फिर भी जाड़ा लगता है। लेकिन ठंड सही भी है। सब कोई कूल रहेगा.. हमको लगता है कि सजा भी कूल माइंड से ही आएगा।
विशेष सीबीआई अदालत से गुरुवार को जब राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद ने शिकायत की कि उनके परिचितों को उनसे जेल में मिलने नहीं दिया जा रहा है तो न्यायाधीश ने हंसते हुए कहा कि इसीलिए तो आपको अदालत में बुलाते हैं जिससे आप सबसे मिल सकें जिसके बाद अदालत में हंसी के फव्वारे फूट पड़े।
चारा घोटाला: जब जज ने लालू से कहा- आपके समर्थकों ने किया था फोन
चारा घोटाले के इस मामले में 23 दिसंबर को दोषी ठहराये जाने के बाद गुरुवार को लालू प्रसाद एवं 15 अन्य अभियुक्तों की विशेष सीबीआई अदालत में पेशी थी। अदालत ने सजा के बिन्दु पर अभियुक्तों की ओर से बहस सुनी और इसी दौरान विशेष सीबीआई न्यायाधीश शिवपाल सिंह ने अदालत में पेश किए गये लालू प्रसाद की ओर इशारा कर पूछा। विशेष जज और लालू में संवाद इस प्रकार रहा।
न्यायाधीश- जेल में कोई दिक्कत तो नहीं?
लालू – साहब जेल में मेरे परिचितों को मुझसे मिलने नहीं दिया जा रहा है।
न्यायाधीश मुस्कराते हुए- इसीलिए तो आपको अदालत में बुलाते हैं जिससे आप सबसे मिल सकें।
न्यायाधीश- अब अदालत में आपकी वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से पेशी की व्यवस्था के बारे में विचार किया जा रहा है।
लालू ने अनुरोध भरे स्वर में कहा- साहब मुझे अदालत में सशरीर बुलाकर अपना फैसला सुनाएं।
अदालत- आपकी पेशी अदालत में कैसे कराई जाए, इसके बारे में कल ही फैसला करेंगे।
लालू- साहब फैसला देने के पहले ठंडे दिमाग से विचार करिएगा।
न्यायाधीश- आपके शुभचिन्तक दूर-दूर से फोन कर रहे हैं।
लालू- हमने कुछ नहीं किया जज साहब, जेल में बहुत ठंड लगती है।
न्यायाधीश- तबला बजाइए।
लालू- जेल में एक किन्नर भी बन्द है, गलती से आ गया है।
न्यायाधीश- आप हैं तो सब ठीक हो जाएगा।
चारा घोटाला:लालू को 1 दिन की राहत,कोर्ट से वापस गए जेल-कल सजा का ऐलान
हारमोनियम बजाएं, लोगों को सिखाएं- कोर्ट
लालू प्रसाद ने फिर जज से पूछा कि क्या वह कुछ अपनी बात रख सकते हैं। कोर्ट ने इजाजत दे दी। लालू ने कहा कि वह भी एलएलबी हैं। प्रैक्टिशनर भी हैं। पटना हाईकोर्ट एवं सुप्रीम कोर्ट में इनरोल्ड हूं। इस पर कोर्ट ने कहा कि झारखंड से भी कुछ ऐसी डिग्री प्राप्त कर लें। जिससे लगे कि आप झारखंड में कुछ भलाई किए हैं। कुछ नहीं तो हारमोनियम बजाना सीखें और कुछ लोगों को सिखाएं। ताकि कुछ लोग भलाई के रास्ते में चले। लालू ने कहा कि कल आपको कागजात दिखाएंगे।
हुजूर पोलिटिकल भाषण था, कंटेम्प्ट ड्राप किया जाए
लालू ने राजद नेता रघुवंश प्रसाद सिंह, तेजस्वी यादव, शिवानंद तिवारी और मनीष तिवारी को नोटिस दिए जाने का मामला भी उठाया। कहा कि उन लोगों ने पोलिटिकल भाषण और कमेंट दिया था। कोर्ट पर किसी ने टिप्पणी नहीं की थी। इसको अदरवाइज नहीं लिया जाए। कंटेम्प्ट का नोटिस ड्राप कर दिया जाए। इस पर कोर्ट ने कहा कि अब तो सभी को नोटिस भेजा जा चुका है। सभी नोटिस का जवाब देंगे। उसके बाद देखा जाएगा, सब कुछ नियम से चलता है।
कोर्ट पर भूरा भरोसा : लालू
कोर्ट से निकलने के बाद लालू प्रसाद ने मीडियाकर्मियों से कहा कि उन्हें कोर्ट पर पूरा भरोसा है। लालू ने खुद कहा कि उन्हें अब शुक्रवार को फैसला सुनाया जाएगा। लालू ने यह भी कहा कि ये पूरी साजिश भाजपा की है। वही उनके खिलाफ सारे तंत्र का इस्तेमाल कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here