रोहित शर्मा और बुमराह के चयन से डु प्लेसिस भी थे हैरान

0
171

केप टाउन
साउथ अफ्रीका ने केप टाउन में खेले गए पहले टेस्ट में भारत को 72 रनों के बड़े अंतर से हराया। क्रिकेट टीम के कप्तान फाफ डु प्लेसिस ने हालांकि माना कि जब भारत के सामने 208 रनों का लक्ष्य था, तब वह काफी नर्वस थे। साउथ अफ्रीका की टीम अपनी दूसरी पारी में 130 रनों के स्कोर पर सिमट गई थी। इसके बाद चौथे दिन भारत को 208 रनों का टारगेट मिला।
रोहित शर्मा विदेश मे फेल है हर साम्य फिर भी खिलिया रहाने की जगह पर आरू एक सोनी वाला है कितना घटिया एड दिख रहा है सोनी की मूँछ काटो वाहियात डूब मर सेयेल
डु प्लेसिस ने सोमवार को मैच के बाद कहा, ‘मैं नर्वस था। मैं जानता था कि नई गेंद हमारे लिए महत्वपूर्ण होगी। अगर हम नई गेंद से विकेट लेने में कामयाब रहे तो भारत को आउट कर सकते हैं।’
पढ़ें: कोहली ने रहाणे के स्थान पर रोहित को चुने का किया बचाव
डु प्लेसिस ने कहा, ‘बेशक भारत के पास कुछ क्वॉलिटी बल्लेबाज हैं लेकिन हमें लगा था कि यदि हम उन पर दबाव बना पाए तो हमारे लिए अच्छा होगा। लेकिन सच कहूं तो मैं काफी नर्वस था।’
डु प्लेसिस ने कहा, ‘जब सुबह हम बल्लेबाजी करने आए तो हमारी योजना 350 की बढ़त हासिल कर भारत को बल्लेबाजा का न्योता देने की थी लेकिन ऐसा हो नहीं पाया।’
INDvsSA: केप टाउन टेस्ट में बने ये रेकॉर्ड्स
208 रनों का पीछा करने उतरी भारतीय टीम सिर्फ 135 रन पर ही ऑल आउट हो गई। वॉर्नेन फिलैंडर ने 42 रन देकर छह विकेट लेकर भारतीय बल्लेबाजी क्रम की कमर तोड़ दी। डु प्लेसिस ने अपने गेंदबाजों की खुलकर तारीफ की। उन्होंने कहा, ‘हमारे पास शानदार सीम बोलिंग आक्रमण है और अगर विकेट से थोड़ी मदद मिल रही हो, तो फिलैंडर और अन्य गेंदबाज बहुत खतरनाक हो जाते हैं। अगर हमारे पास दूसरी पारी में डेल स्टेन भी होते तो मुझे लगता है कि हम भारत को और जल्दी आउट कर सकते थे।’
डु प्लेसिस ने यह भी कहा कि वह पहले टेस्ट में भारतीय टीम में अजिंक्य रहाणे के स्थान पर रोहित शर्मा को चुने जाने के फैसले से हैरान थे। इसके अलावा वह इशांत शर्मा और उमेश यादव जैसे वरिष्ठ खिलाड़ियों की मौजूदगी के बावजूद जसप्रीत बुमराह को टीम में शामिल करना भी डु प्लेसिस के लिए हैरानी भरा फैसला था। उन्होंने कहा, ‘जी, हम इन फैसलों से हैरान थे। हमें नहीं लगता था कि जसप्रीत बुमराह टीम में शामिल होंगे। हमें मालूम है कि उन्होंने सीमित ओवरों में अच्छा प्रदर्शन किया है लेकिन हम अन्य गेंदबाजों की तैयारी कर रहे थे क्योंकि उन्होंने अधिक टेस्ट मैच खेले हैं।’
डु प्लेसिस ने कहा, ‘मुझे लगता है कि रोहित शर्मा को अजिंक्य रहाणे पर वरीयता देना भी अचरज भरा फैसला था। रोहित वनडे क्रिकेट में अच्छी फॉर्म में थे इसलिए शायद भारतीय टीम ने उन्हें टीम में रखा।’
अपनी टीम के बारे में डु प्लेसिस ने कहा, ‘जहां तक हमारी बात है तो हमारे पास विकल्पों की अधिकता की समस्या है। अंतिम एकादश का चयन करना वाकई काफी मुश्किल काम था।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here