भारत दौरे पर इजरायल पीएम, दोस्‍ती के पैगाम के साथ दुनिया को देना है ये संदेश

0
228

पीएम मोदी और उनके इजरायली समकक्ष बेंजामिन नेतन्‍याहू के बीच दोस्‍ती के रिश्‍ते पर पूरी दुनिया की नजर है।
नई दिल्‍ली, आइएएनएस। वैश्विक स्‍तर पर भारत की छवि मजबूत बनाने की दिशा में पीएम नरेंद्र मोदी हमेशा सक्रिय रहे हैं और यह तभी संभव है जब दुनिया के दूसरे देशों के साथ भारत के संबंध मजबूत होंगे। इसी राह पर पीएम मोदी अग्रसर हैं। इस वक्‍त भारत में उनके ‘दोस्‍त’ और इजरायल के पीएम बेंजामिन नेतन्‍याहू मौजूद हैं, जिन्‍हें गले लगाकर पीएम मोदी ने स्‍वागत किया। इस दौरे पर पूरी दुनिया की नजर है, वो भी क्‍यों ना। क्‍योंकि यह सिर्फ दो दोस्‍तों का नहीं बल्कि दो देशों के बीच गहराते संबंध की एक मिसाल है।
आइए इस ऐतिहासिक दौरे के कुछ मुख्‍य बिंदुओं पर प्रकाश डालते हैं-
– छह दिवसीय दौरे के तहत भारत आए हैं इजरायली पीएम बेंजामिन नेतन्‍याहू।
– प्रोटोकॉल तोड़ते हुए पीएम नरेंद्र मोदी खुद उनके स्‍वागत को एयरपोर्ट पहुंचे।
– रेड कॉरपेट पर बेंजामिन के कदम रखते ही मुस्‍कुराते हुए पीएम मोदी ने गले लगाया।
– इजरायली पीएम बेंजामिन नेतन्‍याहू के साथ उनकी पत्‍नी सारा भी आई हैं भारत।
– पीएम मोदी ने अंग्रेजी और यहूदी भाषा में ट्वीट भी किया – वेलकम टू इंडिया माई फ्रेंड नेतन्‍याहू। आपका दौरा ऐतिहासिक और खास है। यह हमारे देशों के बीच की घनिष्‍ठता को और बढ़ाएगा।
– नेतन्‍याहू ने तुरंत प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त करते हुए कहा- गर्मजोशी से स्‍वागत के लिए आपका शुक्रिया मेरे अच्‍छे दोस्‍त।
– नेतन्‍याहू और पीएम मोदी पहले भी कई मौकों पर सोशल मीडिया पर गर्मजोशी से एक दूसरे का अभिनंदन कर चुके हैं। उनके बीच काफी करीबी संबंध विकसित हो चुके हैं।
– एयरपोर्ट से पीएम मोदी और नेतन्याहू तीन मूर्ति मार्ग पहुंचे, जहां उन्होंने शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की और कुछ मिनट का मौन रखा।
– दोनों देशों के संबंधों को एक नई मजूबती देने के लिए दिल्ली के तीन मूर्ति स्मारक में इजरायल के ऐतिहासिक शहर हाइफा का नाम जोड़ दिया गया। अब इस चौक का नाम ‘तीन मूर्ति हाइफा’ हो गया है।
– रविवार शाम को इजरायल पीएम नेतन्‍याहू ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से भी मुलाकात की।
– बेंजामिन के दौरे का मकसद दोनों देशों के बीच कारोबार को बढ़ाने के साथ ही सैन्‍य व रणनीतिक संबंधों को और मजबूत बनाना है।
– पिछले साल जुलाई में पीएम मोदी ने इजरायल का दौरा किया था। वह इजरायल का दौरा करने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री हैं। छह महीने बाद अब बेंजामिन भारत दौरे पर आए हैं।
– दोनों देशों के बीच राजनयिक संबंध स्‍थापित होने के 25 साल पूरे होने के मौके पर यह दौरा और भी बेहद खास और ऐतिहासिक है।
आज का कार्यक्रम
पीएम मोदी और नेतन्याहू के बीच आज द्विपक्षीय स्तर की वार्ता होनी है। आज उनका राष्ट्रपति भवन जाने का कार्यक्रम भी है, जहां उनका औपचारिक स्‍वागत होगा। इस मौके पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज भी मौजूद रहेंगी। पीएम मोदी और नेतन्‍याहू दूसरे भारत- इजराइल सीईओ फोरम की बैठक में भी शामिल होंगे। पहली सीईओ फोरम की बैठक पीएम मोदी के इजराइल दौर के वक्त हुई थी। इसके साथ ही पीएम नेतन्याहू एक व्यापारिक समारोह को संबोधित करेंगे। भारत और इजराइल के बीच रक्षा, जल संरक्षण, कृषि, आंतरिक सुरक्षा आदि मसलों पर चर्चा होनी होनी हैं।
दौरा क्‍यों है खास
– इजरायल दुनिया में भारत के दौरे से विरोधियों को ये जताना चाहता है कि दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश उसका सबसे अच्छा दोस्त है।
– इजरायल भारत की दोस्ती का इस्तेमाल मिडिल-ईस्ट व एशिया के अन्य देशों के साथ डिप्लोमेसी में भी कर सकता है, ताकि दुनिया में उसकी स्वीकार्यता बढ़े।
– इजराइल भारत के साथ कई अरब डॉलर के रक्षा सौदे की उम्मीद लगाए बैठा हैं, वही भारत में प्रधानमंत्री मोदी की मेक इन इंडिया पहल को इजरायल का समर्थन मिलेगा, क्योंकि दोनों देश फ्री-ट्रेड की ओर बढ़ रहे हैं।
– इतना ही नहीं, कृषि सम्बंधित और आईटी समझौते इसमें अहम साबित हो सकते हैं।
– भारत दुनिया की सबसे बड़ी इकॉनोमी है, जिसका फायदा इजरायल उसके वायु शक्ति एवं रक्षा सौदे से उठाना चाहता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here