जम्मू-कश्मीरः सीजफायर उल्लंघन पर पाकिस्तान को करारा जवाब, BSF ने 8 पाक रेंजर्स को किया ढेर

0
370

नई दिल्लीः सीमा पर पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. पाकिस्तान लगातार सीजफायर उल्लंघन कर भारतीय चौकियों और रिहाइशी इलाकों को निशाना बना रहा है. पिछले चार दिनों से लगातार जारी फायरिंग का करारा जवाब देते हुए बीएसएफ ने 8 पाकिस्तानी रेंजर्स को मार गिराया है. शनिवार (20 जनवरी) को एक बार फिर पाकिस्तान की तरफ से भारतीय चौकियों पर गोलीबारी की गई. पाकिस्तान ने जम्मू जिले के आरएस पुरा और अखनूर सेक्टर में गोलीबारी की. लेकिन इस बार उसे मुंह की खानी पड़ी. सूत्रों के हवाले से खबर है कि भारतीय सीमा सुरक्षा बल (BSF) ने पाकिस्तान की तरफ हुई फायरिंग का मुंहतोड़ जवाब देते हुए 8 पाक रेंजर्स को ढेर कर दिया है.
आपको बता दें कि शुक्रवार को भी पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर के चार जिलों में अंतरराष्ट्रीय सीमा और नियंत्रण रेखा से लगे नागरिक इलाकों एवं सीमा चौकियां पर फायरिंग और गोलाबारी की जिसमें दो जवान शहीद हो गए थे और दो नागरिकों की मौत हुई थी. पाकिस्तान की तरह से हुई गोलीबारी में 35 लोग घायल हुए थे.
भारतीय सेना का बयान
पाकिस्तानी थल सेना ने शाम साढ़े छह बजे से नियंत्रण रेखा पर सुंदरबनी सेक्टर (राजौरी जिला) में बगैर उकसावे के छोटे हथियारों, स्वचालित हथियारों और मोर्टार से अंधाधुंध फायरिंग की. इस पर, भारतीय थलसेना ने जोरदार और प्रभावी जवाब दिया. उन्होंने बताया कि दोनों ओर से हुई गोलीबारी में भारतीय सेना के लांस नायक सैम अब्राहम गंभीर रूप से घायल हो गए और बाद वह शहीद हो गए . वह केरल के रहने वाले थे.
बीएसएफ का बयान
बीएसएफ के एक अधिकारी ने बताया कि इससे पहले पाकिस्तान रेंजर्स ने बगैर उकसावे के अंतरराष्ट्रीय सीमा पर आरएस पुरा, अर्निया और रामगढ़ सेक्टरों में कई इलाकों में सुबह छह बज कर 40 मिनट से फायरिंग और गोलाबारी की. उन्होंने अंतरराष्ट्रीय सीमा के 50 किमी के दायरे में सीमा चौकियों और गांवों को निशाना बनाया.उन्होंने बताया कि फायरिंग और गोलाबारी दोपहर में कठुआ जिला में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर भी फैल गई.अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तानी सैनिकों ने तीन सेक्टरों में 45 सीमा चौकियों को निशाना बनाया. वहीं, बीएसएफ ने भी मुंहतोड़ जवाब दिया.
बीएसफ का 1 जवान शहीद
अंतरराष्ट्रीय सीमा पर सांबा सेक्टर पर दोनों ओर से गोलीबारी के दौरान घायल हुए बीएसएफ के हेड कांस्टेबल जगपाल सिंह शहीद हो गए. वहीं, दो अन्य जवान घायल हो गए.एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तानी सैनिकों की भारी गोलाबारी के जरिए अंतरराष्ट्रीय सीमा पर कठुआ, सांबा और जम्मू जिलों के अर्निया, आरएस पुरा, रामगढ़, सांबा और हीरानगर सेक्टरों में 50 से अधिक गांवों को निशाना बनाया गया.पाकिस्तानी फायरिंग और गोलाबारी में दो नागरिक मारे गए जबकि 32 नागरिक घायल हो गए.पाकिस्तान के उपउच्चायुक्त को तलब किया
भारत ने शुक्रवार को पाकिस्तान के उपउच्चायुक्त सैयद हैदर शाह को तलब किया और पाकिस्तानी सैन्य बलों द्वारा निरंतर संघर्षविराम का उल्लंघन किये जाने एवं निर्दोष नागरिकों को अंधाधुंध निशाना बनाये जाने को लेकर उनके सामने ‘गंभीर चिंता’प्रकट की. विदेश मंत्रालय के पाकिस्तान संभाग में संयुक्त सचिव ने शाह को तलब किया था. एक सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार विदेश मंत्रालय ने हीरानगर, सांबा, आर एस पुरा और अरनिया सेक्टरों में 18 और 19 जनवरी, 2019 को पाकिस्तान सैन्यबलों द्वारा किये गये संघर्ष विराम उल्लंघनों में तीन निर्दोष नागिरकों की मौत तथा नौ अन्य नागरिकों के घायल होने पर ‘गंभीर विरोध’दर्ज कराया.
पाकिस्तान को 1 गोली का जवाब हम 10 गोलियों से देंगे: केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर
वर्ष 2018 में नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तानी सैन्य बलों द्वारा अबतक 100 से अधिक ऐसे उल्लंघन किये गये हैं. बयान में कहा गया है, ‘‘पाकिस्तान में संबंधित अधिकारियों को बताया गया कि निर्दोष नागरिकों को अंधाधुंध निशाना बनाया जाना सभी स्थापित मानवीय नियमों एवं परंपराओं के विरुद्ध है. ’’ इससे पहले साप्ताहिक ब्रीफिंग में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा था, ‘‘निरंतर बिना किसी उकसावे के पाकिस्तान द्वारा किये जा रहे संघर्ष विराम उल्लंघन की हम वाकई कड़ी निंदा करते हैं. इस संघर्ष विराम उल्लंघन में जानमाल का नुकसान हुआ है.
इस घटना में प्रभावित हुए लोगों के प्रति हमारी संवेदना है. ’’ उन्होंने यह भी कहा था कि पाकिस्तान आतंकवादियों को भारत में घुसपैठ कराने के लिए आड़ प्रदान करने के लिए संघर्षविराम उल्लंघन करता है लेकिन भारत भी ऐसे मामलों में कड़ा जवाब देता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here