पटना एम्स पूरे तौर पर काम करे तो घट जाएगा दिल्ली एम्स पर दबाव: नीतीश

0
135

बिहार के सीएम नीतीश कुमार और केंद्रीय स्‍वासथ्‍य मंत्री जेपी नड्डा ने 100 करोड़ की लागत से बने संक्रामक रोगों के इलाज के लिए बने सम्राट अशोक ट्रॉपिकल डिजीज सेंटर का उद्घाटन किया।
पटना । मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को कहा कि पटना एम्स पूरे तौर पर काम करना शुरू कर दे तो दिल्ली स्थित एम्स पर दबाव घट जाएगा। बिहार से वहां बड़ी संख्या में मरीज पहुंचते हैं। सोच यह है कि इलाज के लिए बाहर जाने की मजबूरी न हो।
वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जेपी नड्डा ने कहा बहुत जल्द पटना एम्स के सभी ओपीडी काम करने लगेंगे। पटना एम्स में 305 फैकेल्टी की नियुक्ति होनी है। इसके लिए 252 लोगों के इंटरव्यू हुए हैैं जिसमें 91 नाम तय किए गए हैैं। वहीं 54 फैकेल्टी यहां पहले से हैै। अगमकुआं स्थित आरएमआइ परिसर में सम्राट अशोक ट्रॉपिकल डिजीज रिसर्च सेंटर के उद्घाटन समारोह में मुख्यमंत्री और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने यह बात कही।
मुख्यमंत्री ने उद्घाटन समारोह में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से मुखातिब होते हुए कहा कि बिहार के एम्स को पूरी तरह से फंक्शनल कर दीजिए। बिहार में एक और एम्स स्थापित करने की दिशा में आगे बढि़ए। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर कहा कि हम पीएमसीएच को भी वर्ल्‍ड क्लास बनाना चाहते हैैं। एक समय यह देश के सर्वश्रेष्ठ अस्पतालों में शामिल था।
CM नीतीश की सुरक्षा में 3000 पुलिस बल व 250 मजिस्ट्रेट की होगी तैनाती
यह भी पढ़ें
बिहार में स्वास्थ्य के क्षेत्र में हुई उपलब्धियों का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि रूटीन टीकाकरण के क्षेत्र में बिहार ने 90 प्रतिशत की उपलब्धि हासिल कर ली है। जल्द ही इस क्षेत्र में यह देश के तीन शीर्ष राज्यों में शुमार होगा। इस वर्ष मधेपुरा मेडिकल कॉलेज का भवन बनकर तैयार हो जाएगा। कोशिश है कि एमसीआइ के निरीक्षण के बाद वहां इस वर्ष से नामांकन आरंभ हो। सभी मेडिकल कॉलेजों में नर्सिंग कॉलेज, हर जिले में जीएनएम संस्थान और प्रत्येक अनुमंडल में एएनएम संस्थान खोलने की योजना पर काम चल रहा है।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने इस मौैके पर कहा कि हमारी सरकार प्रिवेंटिंग एंड प्रमोटिंग हेल्थ केयर की नीति पर काम कर रही है। इसके तहत तीस वर्ष की उम्र के लोगों के लिए सर्वाइकल कैंसर, ओरल तथा ब्रेस्ट कैंसर, किडनी, हाईपर टेंशन तथा मधुमेह की मुफ्त जांच की जा रही है। फ्री ड्रग्स एंड डायग्नोस्टिक सुविधा में बिहार को भी शामिल किया गया है। हम राशि उपलब्ध कराएंगे मरीज जहां चाहे अपना इलाज कराएं।
दवाओं के लिए अमृत दीनदयाल आउटलेट के तहत ब्रांडेड दवाएं भी साठ से 90 प्रतिशत की छूट पर उपलब्ध होंगी। बिहार को हम सुपर स्पेशिएलिटी ब्लॉक भी दे रहे। उन्होंने कहा कि पटना स्थित वायरोलॉजी सेंटर अब बिहार में स्थायी रूप से काम करेगा। इस वर्ष जून में इसकी अवधि समाप्त हो रही थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here