बिहार सरकार की बड़़ी भूल: 2273 करोड़ रुपये यूज करना ही भूल गई, जानिए

0
191

पूर्णिया प्रमंडल में सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए आवंटित हुए 2,273 करोड़ रुपये का हिसाब नहीं मिल रहा है। यह राशि सरकार खर्च करना ही भूल गई थी।
अररिया । पूर्णिया प्रमंडल में योजनाओं के क्रियान्वयन के आवंटित हुए 2,273 करोड़ रुपये का हिसाब नहीं मिल रहा है। यह अव्यवहृत राशि है, जो 1990 के दशक से अब तक आवंटित हुई पर खर्च नहीं की जा सकी। राज्य सरकार ने इस पर संज्ञान लिया है।
मामले में वित्त विभाग के प्रधान सचिव ने 31 दिसंबर तक इस राशि को जिला कोषागार में जमा कराने का आदेश दिया था।
प्रधान सचिव ने यह आदेश गत 13 दिसंबर को जारी किया था। इसके छह दिन बाद ही पूर्णिया के प्रमंडलीय आयुक्त टीएन बिंधेश्वरी ने चारों जिलों के डीएम को राशि जमा कराने कहा था। महीने भर बीत जाने के बाद भी अररिया जिला में मात्र 27 करोड़ रुपये जमा कराए जा सके हैं।
कटिहार में 11 दिसंबर तक लगभग 447 करोड़ के सापेक्ष 5.27 करोड़, पूर्णिया में 479 करोड़ के सापेक्ष 2.48 करोड़, किशनगंज में 515 करोड़ के सापेक्ष एक भी रुपये जमा नहीं कराए गए हैं।
अररिया जिला के विभिन्न विभागों में 1990 से अब तक अव्यवहृत राशि पड़े रहने की जानकारी अधिकारियों को फाइल खंगालने से मिली है। जिला कल्याण विभाग ने अब तक 20 करोड़ रुपये जमा कराया है। आइसीडीएस ने सवा एक करोड़ रुपये जमा किया है।इसके बावजूद विभिन्न विभागों में 806 करोड़ रुपये का अता-पता नहीं है।
सरकारी जमीन से हटा अतिक्रमण
अररिया कोषागार में 806 करोड़ रुपये जमा नहीं होने से कई विभागों के अधिकारी कठघरे में हैं। यह अव्यहृत राशि दिसंबर तक अररिया जिला से सरेंडर होनी थी। इसे लेकर विभिन्न विभागों में सृजन घोटाले जैसे भ्रष्टाचार की चर्चा हो रही रही है।
सृजन घोटाले के बाद उठाया कदम
जानकारी के मुताबिक वित्त विभाग के प्रधान सचिव सुजता चतुर्वेदी ने भागलपुर में सृजन घोटाला उजागर होने के बाद ऐहतियाती कदम उठाते हुए विभिन्न विभागों में मार्च 2018 तक अव्यहृत रह जाने वाली राशि को गत 31 दिसंबर तक कोषागार में जमा करा देने का आदेश जारी किया है।
जल्द उपलब्ध कराएं लंबित मामलों की सूची : डीएम
इस निर्देश के बाद अररिया समाहरणालय में विभिन्न विभागों की फाइलें खंगाली जा रही हैं। डीपीओ, आइसीडीएस , अररिया के धीरेंद्र मिश्र का कहना है कि यह राशि बहुत पुरानी है। मेरे विभाग में कितनी राशि अवय्हृत है, इसे लेकर छान-बीन की जा रही है। अब तक 125 लाख रुपये जमा कराए गए हैं।
कहा-डीएम, अररिया ने
सभी विभागों को अव्यहृत राशि को कोषागार में जमा करा देने के लिए कड़े निर्देश जारी किए गए हैं। जल्द से जल्द राशि जिला कोषागार में जमा करा दी जाएगी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here