अमृत और सिद्धि योग में आज हो रही मां शारदा की पूजा, जानिए शुभ मुहूर्त

0
304

पटना । ऋतुराज के स्वागत को लेकर पूरे पटना शहर में चहल-पहल है। मां सरस्वती की अर्चना करने के लिए शहर के विभिन्न शिक्षण संस्थानों और चौक-चौराहे पर आकर्षक पंडाल सजधज कर तैयार हैं और लोग सुबह से ही पूजा अर्चना की तैयारी कर रहे हैं।
सोमवार को भक्त मां से विद्या और बुद्धि का वरदान मांगने के लिए विशेष पूजा-अर्चना कर रहे हैं। प्रतिमा स्थापित कर शुभ मुहूर्त में विद्या की देवी की पूजा होगी।
स्थिर लग्न में मां की पूजा – सरस्वती की पूजा को लेकर शहर पूरी तरह से सज चुका है। रविवार को बाजारों में फल और फूलों के साथ सरस्वती की मूर्ति की जमकर खरीदारी हुई। सोमवार को विद्या की देवी की पूजा अमृत योग और सिद्धि योग में होगी। माघ शुक्ल पंचमी तिथि के पूरे दिन पूजन का शुभ समय माना गया है।
पंचमी तिथि के दिन कुंभ लगन 7.58 से 9.29 तक स्थिर लग्न है। मीन लग्न 9.29 से 10.57 तक है। दोनों लग्न में पूजन बेहतर है। उत्तरा भाद्र नक्षत्र में मां सरस्वती की पूजा श्रद्धा और विस्वास के साथ करने की जरूरत है।
मां सरस्वती की प्रतिमा में हर वस्तु का अपना महत्व, आइए जानें
पं. वैदिक ने बताया कि कुंभ लग्न में मां की पूजा करना शुभ है। पूजन के पहले नवग्रह, पंचलोक पाल, विष्णु, गौरी-गणेश, कलश आदि की पूजा पहले करने के बाद मां सरस्वती की पूजा करें।
पूजन के समय लक्ष्मी-गणेश, इष्ट देवता, कुलदेवता के साथ पुस्तक और लेखनी की पूजा करने का विधान है। पूजा के दौरान मां सरस्वती स्त्रोत, सहस्त्रनाम आदि का पाठ शुभ है। पूजा के दिन सात्विक आहार लेना ठीक है।
राशि के अनुसार लगाएं भोग –
मेष, वृश्चिक – लाल वस्तु गाजर आदि का भोग लगाएं
वृष, तुला, कर्क – सफेद वस्तु चावल, दही आदि मिथुन, कन्या – बेर, अंगूर, हरी वस्तु
धनु, मीन – पीली वस्तु, केसर, मिठाई, केला
आज बहनें कुछ ही घंटे तक भाई को बांध सकेंगीं राखी, जानिए वजह
यह भी पढ़ें
राशि के अनुसार चढ़ाएं फूल –
मेष, वृश्चिक – लाल फूल
वृष, कर्क, तुला – सफेद फूल
मिथुन, कन्या – हरा फूल
सिंह – गुलाबी फूल
धनु, मीन – पीला फूल
मकर, कुंभ – नीला फूल
राशियों के अनुसार करें आसन का प्रयोग – पूजा के दौरान राशियों के हिसाब से आसन का प्रयोग करें। मेष, वृश्चिक एवं सिंह राशि वालों के लिए लाल आसन पर बैठकर पूजा करना शुभ है। वृष, तुला एवं कर्क राशि वाले कुश के आसान पर बैठकर पूजा करें। धनु और मीन राशि वाले पीले आसन का प्रयोग करें। कुंभ, मकर राशि वाले हरे रंग का आसान पर बैठकर पूजन करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here