पार्टी के आदेश की परवाह नहीं, मानव श्रृंखला में शामिल हुए कांग्रेस विधायक, कहीे ये बात

0
367

पार्टी के आदेश की परवाह किए बगैर कांग्रेस विधायक रामचंद्र भारती मानव श्रृंखला में शामिल हुए। कहा कि मैंने अपने दिल की आवाज सुनी है। अच्छे काम का विरोध नहीं करना चाहिए।
पटना । पार्टी के आदेश की परवाह किए बिना कांग्रेस के विधान पार्षद रामचंद्र भारती रविवार को दहेज एवं बाल विवाह के खिलाफ आयोजित मानव श्रृंखला में शामिल हुए। उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की प्रशंसा करते हुए कहा कि वह इतिहास पुरुष हैं। दहेज एवं बाल विवाह के खिलाफ जो अभियान चलाया है, वह सराहनीय कदम है।
भारती ने कहा कि अपने दिल की आवाज सुनकर वह मानव श्रृंखला में शामिल हुए हैं। कांग्रेस के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष कौकब कादरी को भी इसमें शामिल होना चाहिए, इस अच्छे काम का विरोध नहीं करना चाहिए था।
रामचंद्र भारती स्ट्रैंड रोड पर जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह के नेतृत्व में बनी मानव श्रृंखला में शामिल हुए। विधान परिषद के पूर्व सभापति अवधेश नारायण सिंह भी यहां मौजूद थे।
भारती ने कहा कि राजाराम मोहन राय ने सती प्रथा समाप्त कराई थी और नीतीश कुमार दहेज एवं बाल विवाह जैसी कुरीतियां समाप्त कराने में जुटे हैं। इतिहास नीतीश कुमार को हमेशा याद रखेगा। कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डा. अशोक चौधरी के संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि उनका तो मानव श्रृंखला को समर्थन है। वह इस संबंध में बयान दे चुके हैं।
सुशील मोदी की अपील- राजद-कांग्रेस भी ह्यूमन चेन में हो शामिल
यह भी पढ़ें
दरअसल, कांग्रेस और राजद ने मानव श्रृंखला का यह कहकर विरोध किया था कि मुख्यमंत्री सिर्फ अपना चेहरा चमकाने के लिए यह आयोजन कर रहे हैं।
बता दें कि इससे पहले पूर्व अध्यक्ष डॉ. अशोक चौधरी ने पार्टी लाइन से हटकरमानव श्रृंखला को अपना नैतिक समर्थन दिया था। उन्होंने अन्य राजनीतिक दलों से भी अपील की थी कि लोगों को मतभेद भुला कर कुप्रथा के खिलाफ बनने वाली मानव श्रृंखला को अपना समर्थन देना चाहिए।
वहीं, बिहार कांग्रेस के कार्यकारी अध्‍यक्ष कादरी ने मानव श्रृंखला का विरोध करते हुए कहा था कि कि राज्यभर में अराजक स्थिति बनी हुई है। पिछले छह महीने से राज्य में बालू संकट व्याप्त है। मजदूरों को काम की तलाश में राज्य से पलायन करना पड़ रहा है। ठंड की विभीषिका ने पूरे राज्य के जन-जीवन को पिछले एक माह से प्रभावित कर रखा है। न कहीं अलाव की व्यवस्था है और न ही ठंड से बीमार पड़ रहे लोगों के इलाज की।
यहां तक कि सरकार की तरफ से गरीबों को इस कड़ाके के ठंड में भगवान भरोसे छोड़ दिया गया है। कहीं भी कंबल का वितरण नहीं किया जा रहा है। जबकि दूसरी तरफ सरकार दहेज व बाल विवाह के नाम पर मानव शृंखला का ड्रामा कर रही है।
मानव श्रृंखला में शामिल हुए CM नीतीश, कहा- कुरीतियों के खिलाफ जागृत हुआ बिहार
इस कड़ाके की ठंड में सरकार अपनी लोकप्रियता दिखाने के लिए स्कूली शिक्षकों व छात्र-छात्राओं को मानव श्रृंखला में शामिल होने का दबाव बना रही है। उन्होंने कहा कि यदि सरकार उपरोक्त समस्याओं को दूर करने के लिए मानव श्रृंखला का निर्माण करती तो उसमें कांग्रेस जरूर शामिल होती।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.