बजट सहित इन मुद्दों पर बोले PM, कहा- लोकलुभावन नहीं होगा इस साल का बजट

0
285

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बजट से पहले संकेत दे दिए है कि इस बार का बजट लोकलुभावन नहीं होगा। 2019 के आम चुनाव से पहले मोदी सरकार का ये आखिरी बजट होगा। इससे पहले उम्मीदें लगाई जा रही थी कि यो बजट थोड़ा लोकलुभावन नहीं होगा।

मोदी ने साफ कर दिया है कि इश बजट में चुछ कड़े फैसले लिए जा सकते है। बता दें कि बजट 1 फरवरी को पेश किया जाएगा। हाल ही में एक अंग्रेजी चैनल को दिए इंटरव्यू में पीएम मोदी ने कहा कि आगामी आम बजट कोई लोकलुभावना नहीं होगी साथी ही कहा कि सरकार अपने एजेंडे पर ही चलेगी, जिसके चलते भारतीय अर्थव्यवस्था पांच सबसे कमजोर अर्थव्यवस्थाओं से निकलकर दुनिया का आकर्षक गंतव्य बन गया है।

प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि यह एक मिथ हा कि लोग मुफ्त की चीजें और छूट चाहते हैं। पीएम मोदी से जब सवाल किया गया कि क्या एक फरवरी को पेश होने वाले बजट में वो लोकलुभावन घोषणा कर सकते है तो उन्होंने जबाव दिया कि लोग मुफ्त की चीजें और छूट चाहते हैं। साथ ही कहा कि यह तय करना है कि देश को आगे बढ़ने और मजबूत होने की जरूरत है यौ इसे इश राजनैतिक संस्कृति कांग्रेस की स्स्कृति का अनुसरण करना है।
मोदी ने आगे कहा कि आम जनता ईमानदार सरकार चाहती है। आम आदमी छूट या मुफ्त की चीज नहीं चाहती है यह मुफ्त की चीज की चाहत अपकी कोरी कल्पना है। जब उनसे यह पूछा गया कि यह 2019 के आम चुनाव से पहले उनकी सरकार का अंतिम पूर्ण बजट होगा, तो मोदी बोले, यह वित्त मंत्रालय का मामला है और वह इसमें हस्तक्षेप नहीं करना चाहते। उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने मुझे गुजरात के मुख्यमंत्री और पीएम के रूप में काम करते देखा है वो जानते हैं कि सामान्य लोग इस तरह की चीजों की अपेक्षा नहीं करता। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार के फैसले जनता की आवश्यकताओं और आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए हैं। प्रधानमंत्री ने बातचीत के दौरान अपनी सरकार की आर्थिक नीतियों का जोरदार बचाव किया। जीएसटी के बारे में उन्होंने कहा कि उनकी सरकार माल एंव सेवा कर में संशोधन के सुझाव पर अमल के लिए तैयार है ताकि इसे अध्क कारगर प्रणाली बनाया जा सके और इसकी खामियां दूर हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here