जापान में भारी बर्फबारी, 180 लोग घायल, चरमराई यातायात व्यवस्था

0
144

टोक्यो : जापान की राजधानी तोक्यो में आज दुर्लभ रूप से बर्फ की मोटी चादर बिछ गई, जिसकी वजह से हजारों यात्री रास्ते में फंसे रहे और दर्जनों घायल हो गए. सार्वजनिक यातायात भी इस स्थिति की वजह से चरमरा गया. जापान मौसम एजेंसी ने टोक्यो के कुछ हिस्सों में 23 सेंटीमीटर बर्फबारी दर्ज की है जो कि फरवरी, 2014 के बाद से अब तक की सबसे बड़ी बर्फबारी है.
700 रोड एक्सीडेंट
मंगलवार को मौसम से यातायात काफी प्रभावित रहा. दुनिया के सबसे ज्यादा जनसंख्या वाले शहरों में से एक टोक्यो में लाखों लोगों को अपने घरों तक पहुंचने में खासी मश्क्कत करनी पड़ी. सार्वजनिक प्रसारणकर्ता एनएचके ने बताया कि कम से कम 180 लोगों को इस बर्फ जमी हुई सड़क पर चोटे आई हैं और करीब 700 यातायात दुर्घटनाएं हुई हैं. यहां हर जगह सफेद बर्फ की मोटी परत बिछ गई है. पेड़, सड़क, मकान आदि बर्फ से ढक गए हैं.

ज्वालामुखी भड़कने से हुआ हिमपात
यहां से पश्चिमोत्तर में मंगलवार को एक ज्वालामुखी में विस्फोट हो गया जिससे आसपास हिमस्खलन शुरू हो गया है. इस विस्फोट में 15 लोग घायल हो गए, जबकि चार हिमस्खलन की चपेट में आ गए. समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, बचाव कार्य में शामिल एक दमकलकर्मी ने बताया कि गुनमा के माउंट कुसात्सू-शिराने ज्वालामुखी में विस्फोट होने से पास के कुसात्सू-माची इंटरनेशनल स्की रिसॉर्ट इलाके में हिमस्खलन हो गया.

भूकंप के झटके
जापान मौसम विज्ञान एजेंसी (जेएमए) ने कहा कि शुरू में ज्वालामुखी के दक्षिण की ओर से धुआं उठता देखा गया था और उच्च तीव्रता वाले भूकंप के झटके भी दर्ज हुए. इसके बाद ज्वालामुखी के आसपास के पहाड़ों से चट्टानें गिरने लगीं. जेएमए ने माउंट कुसात्सू शिराने के लिए तीन स्तरीय चेतावनी जारी की है. भारी बर्फबारी के चलते टोक्यो की यातायात व्यवस्था चरमरा गई है. यहां से उड़ने वाली सभी उड़ानों के रद्द कर दिया गया है. रेल की पटरियों तथा सड़कों पर बर्फ जमी हुई है. ट्रेनों के संचालन को भी कैंसिल करना पड़ा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here