गणतंत्र दिवस:जयपुरी चुन्नी ओढ़ राजपथ पहुंचे 10 आसियान नेता, देखी भारत की ताकत

0
355

नई दिल्ली: देश के 69वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर विजय चौक से ऐतिहासिक लालकिले तक देश की आन.बान.शान का शानदार नजारा देखा गया जिसमें प्राचीनकाल से चली आ रही भारत की अनूठी एकता में पिरोई विविधताओं वाली विरासत, आधुनिक युग की विभिन्न क्षेत्रों की उसकी उपलब्धियां और देश की सुरक्षा की गारंटी देने वाली फौज की क्षमता का भव्य प्रदर्शन हुआ।
PunjabKesari
आसियान के 10 देशों के नेता रहे मौजूद
इस वर्ष गणतंत्र दिवस परेड की खासियत मुख्य अतिथि के रूप में आसियान के 10 देशों के नेताओं एवं शासनाध्यक्षों की मौजूदगी रही। राजपथ पर गणतंत्र दिवस परेड में सलामी मंच पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ आसियान देशों के राष्ट्राध्यक्षों में ब्रूनेई के सुल्‍तान हाजी-हसनल-बोल्किया मुइज्‍जाद्दीन वदाउल्‍लाह, इंडोनेशिया के राष्‍ट्रपति जोको विदोदो, फिलीपीन के राष्‍ट्रपति रोड्रिगो रोआ डूतरेत, कंबोडिया के प्रधानमंत्री हुन सेन, सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सिएन लूंग, मलेशिया के प्रधानमंत्री दातो स्री मोहम्‍मद नजीब बिन तुन अब्‍दुल रकााक, थाईलैंड के प्रधानमंत्री जनरल प्रयुत छान-ओ-चा, म्‍यामां की स्‍टेट काउंसलर आंग सांग सू ची, वियतनाम के प्रधानमंत्री नग्‍युएन जुआन फूक और लाओ पीडीआर के प्रधानमंत्री थोंगलोंन सिसोलिथ मौजूद थे।
PunjabKesari
राष्ट्रपति ने फहराया तिरंगा
करीब 10 बजे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने तिरंगा फहराया। राष्ट्रगान की धुन के बीच 21 तोपों की सलामी के साथ परेड शुरू हुई। परेड से पहले सलामी मंच पर जम्मू कश्मीर में एक अभियान के दौरान दो आतंकवादियों को मार गिराने वाले भारतीय वायु सेना के गरुड़ कमांडो ज्योति प्रकाश निराला को मरणोपरांत शांतिकाल के सर्वोच्च वीरता पुरस्कार अशोक चक्र से सम्मानित किया गया। आंखों में गर्व का भाव लिये कमांडो निराला की पत्नी सुषमानंद और मां मालती देवी ने राष्ट्रपति से सम्मान ग्रहण किया। इस दौरान राष्ट्रपति भावुक दिखे।
PunjabKesari
परेड Highlights
-आसियान देशों के नेता जयपुरी बांधनी चुन्नी ओढ़ कर समारोह में हिस्सा लेने आए थे।

-परेड का नेतृत्व लेफ्टिनेंट जनरल असित मिस्त्री ने किया। इसमें मेकैनाइज्ड इन्फैन्ट्री रेजीमेंट, गोरखा ट्रेनिंग सेंटर, पंजाब रेजिमेंट, पैरा रेजिमेंटल सेंटर, मद्रास रेजिमेंटल सेंटर, मराठा लाइट इंफ्रेंट्री, डोगरा रेजिमेंट, मराठा एवं राजपूताना रेजिमेंट का संयुक्त बैंड, लद्दाख स्काउट्स, तोपखाना दस्ता, प्रदेशिक दस्ता, 123 इंफैंट्री बटालियन, दिल्ली पुलिस के बैंड दस्ते ने सधे कदमों के साथ प्रस्तुति दी।

-रूद्र अैर ध्रुव का डायमंड फर्मेशन प्रस्तुत किया गया।

-नौसेना की मार्चिंग टुकड़ी और नौसेना की झांकी भी दिखी जिसमें आईएनएस विक्रांत को पेश किया गया।

-वायु सेना के मार्चिंग टुकड़ी के बाद वायुसेना की भी एक झांकी पेश की गई जिसमें महिला शक्ति और स्वदेशी को प्रर्दिशत किया गया।

-नारी शक्ति का शानदार प्रदर्शन देखने को मिला और बीएसएफ के महिला मोटर साइकिल सवार दस्ते ने अद्भुत करतब दिखाए।

-परेड में अत्याधुनिक हथियारों, मिसाइलों, विमानों और भारतीय सैनिकों के दस्तों ने देश के किसी भी चुनौती से निपट सकने की ताकत का अहसास कराया।

-एक टुकड़ी ने आसियान देशों के ध्वज को लेकर मार्च किया। इसमें 61वीं कैवेलरी दस्ता ने हिस्सा लिया। इसमें टी-90 भीष्म टैंक, ब्रह्मोस मिसाइल प्रणाली के साथ हथियार खोजी रडार ‘स्वाथि’ के अलावा ब्रिज लेयर टैंक टी-72, आकाश वायु रक्षा प्रणाली का भी प्रदर्शन किया गया।

-पहली बार आकाशवाणी की झांकी भी देखने को मिली। जिसमें प्रधानमंत्री के बहुर्चिचत मासिक कार्यक्रम ‘मन की बात’को दिखाया गया।

-इस वर्ष पहली बार आयकर विभाग की भी झांकी प्रर्दिशत हुई। इसका विषय नोटबंदी के बाद उसके द्वारा शुरू किया गया कालाधन-रोधी विशेष अभियान था। झांकी का विषय ‘ऑपरेशन क्लीन मनी’ (ओसीएम) था। इसमें अभियान को सफल बनाने में लोगों के विशेष सहयोग को दिखाया गया।

-कृषि क्षेत्र के लिए शोध करने वाले सरकारी संस्थान भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) की झांकी इस बार पहली बार गणतंत्र दिवस की परेड में शामिल की गई। इस झांकी का मूल विषय एकीकृत खेती है जिसका लक्ष्य किसानों की आय को दोगुना करना है।

-भारतीय सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) की झांकी में पहली बार इस परेड में बीएसएफ की महिला जवानों की मोटरसाइकिल सवार टुकड़ी ने करतब दिखाया।

-परेड के दौरान स्कूली बच्चों ने शानदार प्रस्तुतियां दी और इस दौरान राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और समारोह के अतिथि काफी खुश नजर आए।

-इस बार परेड में भारत के विदेश मंत्रालय की दो झांकियां प्रस्तुत की गई। इन झांकियों में भारत के आसियान देशों के साथ संबंधों को दिखाया गया।

-राज्यों की झांकी पेश की गई जिनमें मध्य प्रदेश, त्रिपुरा, उत्तराखंड, जम्मू कश्मीर, महाराष्ट्र, लक्षद्वीप, छत्तीसगढ़, केरल, असम, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, मणिपुर और गुजरात शामिल हैं।

-गुजरात की झांकी में साबरमती आश्रम की गतिविधियों और दांडी मार्च पर निकल रहे गांधी जी के भित्तचित्र को दर्शाया गया।

-अर्द्धसैन्य बलों की झांकियों में भारत तिब्बत सीमा पुलिस की झांकी भी राजपथ से गुजरी। इसके बाद मंत्रालयों की झांकियां पेश की गई।

-परेड के अंत में वायुसेना के विमानों ने अद्भुत करतब दिखाए। इसमें सुखोई 30 एमकेआई विमानों ने त्रिशूल फार्मेशन पेश किया जबकि तेजस विमानों ने ‘विक्ट्री फार्मेशन पेश किया।

-इसके अलावा पांच मिग-29 विमानों ने ‘एयरो हेड फार्मेशन’ प्रस्तुत किया । सुखोई-30 विमानों के बीच में सी-17 ग्लोबमास्टर ने प्रस्तुती दी।

-सी-130जे हरक्यूलियस विमानों एवं जगुआर विमानों ने भी परेड में हिस्सा लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.