Ind vs SA: वनडे सीरीज में नया आगाज करना चाहेगी टीम इंडिया

0
171

टेस्ट सीरीज 1-2 से गंवाने के बावजूद भारतीय टीम बढ़े हुए मनोबल के साथ आज से छह मैचों की वनडे सीरीज में साउथ अफ्रीका से टक्कर लेगी। टेस्ट सीरीज के पहले दो मैच बुरी तरह गंवाकर आलोचनाओं का शिकार बनी विराट कोहली ऐंड कंपनी ने शानदार फास्ट बोलिंग के सहारे तीसरे और अंतिम टेस्ट को चार दिन में जीतकर आलोचकों के मुंह पर ताला जड़ दिया।

नंबर वन बनने का मौका
टीम इंडिया ने पिछली आठ द्विपक्षीय वनडे सीरीज जीती है। हालांकि, उसे अब तक साउथ अफ्रीका की धरती पर एक भी द्विपक्षीय वनडे सीरीज में जीत नहीं मिली है। विराट के धुरंधरों के पास मौका है कि वह ना केवल अपना रेकॉर्ड सुधारें बल्कि नंबर वन की कुर्सी भी हासिल कर लें। फिलहाल आईसीसी वनडे रैंकिंग्स पर टॉप पर काबिज मेजबान टीम के खिलाफ सीरीज के चार मैच जीतते ही टीम इंडिया नंबर वन बन जाएगी।

एबीडी के नहीं होने का फायदा
उंगली में लगी चोट के कारण साउथ अफ्रीका के विस्फोटक बैट्समैन एबी डि विलियर्स वनडे सीरीज के पहले तीन मैचों में नहीं खेल सकेंगे। वनडे मैचों में 54 के ऐवरेज से 9515 रन बना चुके एबी भारत के खिलाफ साउथ अफ्रीका की ओर से सबसे ज्यादा सेंचुरी जड़ने वाले प्लेयर हैं। भारत के खिलाफ वनडे मैचों में जब भी एबी ने 100 या इससे ज्यादा रन बनाए उनका स्ट्राइक रेट 100 से ज्यादा का ही रहा। ऐसे खतरनाक बल्लेबाज का बेंच पर बैठना भारतीय बोलर्स के लिए बड़ी राहत देने वाली खबर है। वे इसका फायदा उठा सकते हैं। लेकिन भारतीय बोलर्स को मेजबान टीम के विकेटकीपर और ओपनर क्विंटन डी कॉक, कप्तान डु प्लेसिस और हाशिम अमला को भी काबू में रखना होगा।

स्पिनर्स की पहेली
किंग्समीड की पिच स्पिन बोलर्स के लिए आमतौर पर मददगार नहीं मानी जाती। किंग्समीड की पिच पर स्पिन बोलर्स को औसतन हर 49वीं बॉल पर विकेट मिला है जबकि पेस बोलर्स को औसतन हर 38वीं बॉल पर। ऐसे में भारतीय टीम केवल एक स्पिनर के साथ पहले वनडे मैच में उतर सकती है। चाइनामैन बोलर कुलदीप यादव को मौका मिलने की संभावना ज्यादा है क्योंकि मेजबान टीम में डी कॉक, जेपी डुमिनी और डेविड मिलर के रूप में तीन लेफ्ट हैंड बैट्समैन हैं। अपनी विविधतापूर्ण गेंदों से कुलदीप इन तीन खिलाड़ियों को कंट्रोल में रख पाते हैं तो दूसरे छोर से बाकी बोलर्स का काम आसान बन सकता है।

मिलेगी फ्लैट पिच!
टेस्ट सीरीज के दूसरे मैच के लिए तैयार की गई पिच की यह कहकर आलोचना हुई थी कि ऐसी पिच तो भारतीय उपमहाद्वीप में ही देखने को मिलती है। तीसरे टेस्ट की मेजबानी करने वाले वांडरर्स स्टेडियम की पिच को तो आईसीसी तक न खराब करार दे दिया। हालांकि वनडे सीरीज में पिच को लेकर कोई विवाद होने के आसार नहीं है। अटकलें हैं कि पिच पाटा रहेगी जिस पर खूब रन बनेंगे। अगर किंग्समीड में ऐसा होता है तो यह दिलचस्प होगा। उधर, साउथ अफ्रीका के कोच ओटिस गिब्सन कह चुके हैं कि भले ही उनकी टीम वनडे में नंबर वन है लेकिन यह पहलू वनडे फॉर्मेट में आजकल बहुत कम मायने रखता है।

खास क्लब में शामिल हो सकते हैं धोनी
वनडे सीरीज के दौरान महेंद्र सिंह धोनी दो उपलब्धियां हासिल कर सकते हैं। वह 10,000 वनडे रन पूरे करने वाले चौथे भारतीय और विकेट के पीछे 400 शिकार करने वाले दुनिया के चौथे विकेटकीपर बन सकते हैं। वनडे मैचों में 10,000 पूरे करने के लिए धोनी को और 102 रन की दरकार है। धोनी के नाम 312 वनडे मैचों में 9898 रन हैं। विकेटकीपिंग में धोनी ने 398 शिकार किए हैं। उन्होंने 293 कैच लपकने के अलावा 105 स्टंपिंग भी की है।

विराट बनाएंगे अनोखी सेंचुरी
भारतीय कप्तान विराट कोहली वनडे मैचों में एक अनूठी सेंचुरी्बनाने के करीब हैं। वह यदि साउथ अफ्रीका के खिलाफ वनडे सीरीज में दो सिक्स और जड़ देते हैं तो वह वनडे मैचों में 100 या इससे ज्यादा सिक्स लगाने वाले भारत के आठवें बल्लेबाज बन जाएंगे। विराट के नाम 202 वनडे मैचों में 98 सिक्स हैं। वनडे मैचों में सबसे ज्यादा सिक्स लगाने वाले भारतीय खिलाड़ी हैं एमएस धोनी जिन्होंने 216 सिक्स जड़े हैं।

भारत-साउथ अफ्रीका संभावित प्लेइंग XI
साउथ अफ्रीका: फाफ डु प्लेसिस (कैप्टन), हाशिम अमला, क्विंटन डी कॉक, खाया जोंडो, जेपी डुमिनी, डेविड मिलर, क्रिस मोरिस, कागिसो रबाडा, मोर्ने मोर्केल, इमरान ताहिर, लुंगी एंगिदी

भारत: विराट कोहली (कप्तान), शिखर धवन, रोहित शर्मा, श्रेयस अय्यर, मनीष पांडे, एमएस धोनी, हार्दिक पंड्या, भुवनेश्वर कुमार, कुलदीप यादव, जसप्रीत बुमरा, मोहम्मद शमी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here