अयोध्या विवादः दस्तावेजों का पूरा नहीं हुआ अनुवाद तो सुप्रीम कोर्ट ने 14 मार्च तक टाली सुनवाई, रोज हियरिंग से भी इनकार

0
328

सुप्रीम कोर्ट राजनीतिक रूप से संवेदनशील अयोध्या विवाद से जुड़ी याचिकाओं पर सुनवाई शुरू हो चुकी है। प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय विशेष पीठ मामले की सुनवाई कर रही है।
लाइव अपडेट्स
2.54 PM अयोध्या मामले की अगली सुनवाई 14 मार्च को होगी।
2.50 PMसुप्रीम कोर्ट ने दस्तावेज जमा करने के लिए 2 हफ्ते का समय दिया। कोर्ट में 42 किताबें रखवाई गई हैं।
2.46 PM सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि मामले से जुड़े हुए वीडियो 2 हफ्ते के भीतर कोर्ट के सामने रखे जाएं।
2.30 PM रामायण और गीता के अंशों का किया जाए अनुवादः सुप्रीम कोर्ट
2.25 PM- यूपी सरकार का कहना है कि उनकी तरफ से 504 दस्तावेज जमा किए हैं।
2.25 PM- कोर्ट में 87 सबूतों को जमा किया गया है। इसमें रामायण और गीता भी शामिल है।
2.18 PM- सबसे पहले मुख्य पक्षकारों की दलीलें सुनी जाएंगी: सुप्रीम कोर्ट
2.15 PM- विवादित भूमि पर अस्पताल बनाने की श्याम बेनेगल की याचिका खारिज।
2.10 PM- सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा कि इसे भूमि विवाद की तौर पर देखा जाए
2.05 PM- चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, अशोक भूषण और अब्दुल नजीर की पीठ कर रही है सुनवाई
2.00PM – मामले की सुनवाई शुरू
अयोध्या विवादः सुप्रीम कोर्ट में आज से सुनवाई,10 प्वाइंट्स में जानें
पीठ ने पिछले साल 5 दिसंबर को स्पष्ट किया था कि वह 8 फरवरी से इन याचिकाओं पर अंतिम सुनवाई शुरू करेगी। साथ ही विभिन्न पक्षों से इस बीच जरूरी संबंधित कानूनी कागजात सौंपने का निर्देश दिया था। वरिष्ठ वकीलों कपिल सिब्बल और राजीव धवन ने कहा था कि दीवानी अपीलों को या तो पांच या सात न्यायाधीशों की पीठ को सौंपा जाए या इसे इसकी संवेदनशील प्रकृति तथा देश के धर्मनिरपेक्ष ताने बाने और राजतंत्र पर इसके प्रभाव को ध्यान में रखते हुए 2019 के लिए रखा जाए ।
अयोध्या विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- 8 फरवरी के बाद नहीं टलेगी सुनवाई
शीर्ष अदालत ने भूमि विवाद में इलाहाबाद हाईकोर्ट के 2010 के फैसले के खिलाफ 14 दीवानी अपीलों से जुड़े एडवोकेट ऑन रिकार्ड से यह सुनिश्चित करने को कहा कि सभी जरूरी दस्तावेजों को शीर्ष अदालत की रजिस्ट्री को सौंपा जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.