कांग्रेस के नेताओं से सोनिया गांधी ने कहा, राहुल अब मेरे भी बॉस हैं

0
169

नई दिल्ली
पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने साफ कहा है कि राहुल गांधी अब उनके भी बॉस हैं। पार्टी की संसदीय दल की बैठक में उन्होंने अपनी भूमिका को लेकर तमाम शंकाओं और अफवाहों पर पूर्ण विराम लगाने की कोशिश की। उन्होंने कहा, ‘हमारे पास नए कांग्रेस अध्यक्ष हैं और मैं आपकी व खुद अपनी ओर से उन्हें शुभकामनाएं देती हूं।’ इसी दौरान सोनिया ने कहा, ‘वह (राहुल गांधी) अब मेरे भी बॉस हैं। इस बारे में किसी को कोई संदेह नहीं होना चाहिए।’ सोनिया के इस बयान को राहुल के कांग्रेस अध्यक्ष बनने से कथिततौर पर असंतुष्ट पार्टी नेताओं के लिए बड़ा संदेश माना जा रहा है।गौरतलब है कि राहुल गांधी को कांग्रेस पार्टी की कमान सौंपने के बाद सोनिया गांधी ने राजनीति से रिटायरमेंट का ऐलान किया था। हालांकि कांग्रेस पार्टी की ओर से कहा गया था कि सोनिया गांधी सिर्फ अध्यक्ष पद से रिटायर हुई हैं, राजनीति से नहीं। संसदीय दल की बैठक के दौरान सोनिया ने मोदी सरकार पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि केंद्र की सरकार ‘अधिकतम पब्लिसिटी, न्यूनतम सरकार’ और ‘अधिकतम मार्केटिंग, न्यूनतम डिलिवरी’ के तौर पर काम कर रही है।
मोदी सरकार पर बड़ा हमला
सोनिया गांधी ने आरोप लगाया कि लोकतंत्र के तमाम संस्थानों को जानबूझकर निशाना बनाया जा रहा है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि सरकार राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों को टारगेट करने के लिए जांच एजेंसियों का इस्तेमाल कर रही है। सोनिया गांधी ने कहा, ‘इस सरकार को सत्ता में आए हुए करीब चार साल हो चुके हैं। इस दौरान संसद, न्यायपालिका, मीडिया और सिविल सोसायटी समेत कई लोकतांत्रिक संस्थानों को निशाना बनाया गया।’
उन्होंने आगे कहा, ‘दलितों और अल्पसंख्यकों के खिलाफ हिंसा की छिटपुट वारदातें नहीं हो रही हैं बल्कि जानबूझकर संकीर्ण राजनीतिक लाभ के लिए समाज में ध्रुवीकरण की कोशिश हो रही है।’ इस दौरान उन्होंने गुजरात के विधानसभा चुनाव और राजस्थान में हुए उपचुनावों में पार्टी के शानदार प्रदर्शन का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि ये नतीजे बताते हैं कि हवा बदल रही है। उन्होंने कहा, ‘मैं इस बात को लेकर आश्वस्त हूं कि कर्नाटक में भी कांग्रेस का प्रदर्शन बेहतर रहेगा।’
कांग्रेस में हाल में हुआ पीढ़ीगत बदलाव
हाल ही में पार्टी में पीढ़ीगत बदलाव हुआ है। राहुल अपनी मां सोनिया गांधी की जगह अध्यक्ष चुने गए। सोनिया 19 साल तक इस पद पर रहीं। वह 1998 में कांग्रेस की अध्यक्ष बनी थीं। यह बदलाव देश की सबसे पुरानी पार्टी में नए युग का आगाज माना गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here