सेना को ले मोहन भागवत के बयान पर बवाल, CM नीतीश ने बचाव में कही ये बात

0
144

सेना को लेकर संघ प्रमुख मोहन भागवत के बयान से राजनीति गरमा गई है। भागवत विपक्ष के निशाने पर हैं तो सीएम नीतीश उनका बचाव कर रहे हैं। क्‍या है मामला, जानने के लिए पढ़ें खबर।
पटना । राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत के सेना पर दिए गए बयान को लेकर देश में बवाल मचा है। इसे लेकर भागवत विपक्ष के निशाने पर हैं तो बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार उनका बचाव कर रहे हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि देश की रक्षा के संदर्भ में अगर कोई नागरिक या संगठन कुछ कह रहा अथवा सीमा की रक्षा के लिए कोई संगठन अपनी तत्परता दिखाता है तो यह टिप्पणी की बात नहीं।
मालूम हो कि आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने रविवार को मुजफ्फरपुर में आरएसएस के स्वयंसेवकों के खुले सम्मेलन में यह कहा था कि उनके स्वयंसेवक देश की रक्षा के लिए तैयार हैं। देश को जरूरत पड़ी और संविधान इजाजत दे तो तीन दिनों में ही सेना के रूप में मातृभूमि की रक्षा के लिए तैयार हो जाएंगे।
मुख्‍यमंत्री ने यह भी कहा कि गठबंधन (राजग) का नेतृत्‍व सामूहिक है। उन्‍होंने राम जन्‍मभूमि विवाद का निबटारा समझौते से कराने पर बल दिया। एक सवाल के जवाब में कहा कि आजादी की लड़ाई में सबों का योगदान रहा है। सोमवार को लोकसंवाद कार्यक्रम के बाद संवाददाताओं से बातचीत के क्रम में मुख्यमंत्री ने ये बातें कहीं।
संघ प्रमुख मोहन भागवत का पटना में स्‍वागत, 10 दिनों के दौरे पर आए बिहार
आजादी की लड़ाई में सबों का योगदान
मुख्यमंत्री से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा संसद में पिछले दिनों दिए गए उस वक्तव्य पर भी पूछा गया जिसके तहत मोदी ने कहा था कि सरदार पटेल अगर प्रधानमंत्री होते तो संपूर्ण कश्मीर हमारा होता। मुख्यमंत्री ने कहा कि अलग-अलग लोगों की अलग-अलग राय होती है। सरदार पटेल और नेहरू सभी आजादी की लड़ाई में हिस्सेदार थे। नेता जी सुभाष चंद्र बोस का भी योगदान है।
मुख्‍यमंत्री ने कहा कि आजादी की लड़ाई में इन लोगों का योगदान लुप्त नहीं हो सकता। आजादी की लड़ाई में लोगों की सहभागिता गांधी जी के नेतृत्व में शुरू हुई। गांधी जी देश का विभाजन नहीं चाहते थे। आजादी के जश्न में भी गांधी जी शामिल नहीं थे।
तेजस्‍वी ने CM नीतीश की ईमानदारी पर खड़े किए सवाल, पूछा- आप मिट्टी में कब मिल रहे?
गठबंधन का नेतृत्‍व सामूहिक
राजग के कुछ घटक दलों की नाराजगी के संबंध में जब मुख्यमंत्री से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि राजनीति में कुछ न कुछ हलचल चलती रहती है। पर मेरी राय है कि 2019 में कोई समस्या नहीं होने वाली। बिहार में उपेंद्र कुशवाहा और जीतनराम मांझी की नाराजगी वाले वक्तव्य पर मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सरकार का नेतृत्व कर रहे हैैं, गठबंधन का नेतृत्व सामूहिक है।
समझौते से हो राम जन्‍मभूमि विवाद का निबटारा
रामजन्मभूमि से जुड़े एक सवाल पर मुख्यमंत्री ने यह कहा कि वे आरंभ से यह कहते रहे हैैं कि इस विवाद का निपटारा आपसी समझौते से हो या फिर न्यायालय के फैसले से समाधान हो। राहुल गांधी द्वारा इन दिनों मंदिर जाने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इसमें बुरा क्या है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here