वित्त मंत्रालय ने कहा, ‘नियंत्रण से बाहर’ नहीं PNB केस

0
15

नई दिल्ली
वित्त मंत्रालय ने आज पंजाब नैशनल बैंक (पीएनबी) के 11,300 करोड़ रुपये के घोटाले को लेकर जताई जा रही आशंकाओं को खारिज किया और कहा कि यह मामला ‘नियंत्रण के बाहर’ नहीं है और इस बारे में उचित कार्रवाई की जा रही है। वित्तीय सेवा विभाग में संयुक्त सचिव लोक रंजन ने एक कार्यक्रम के मौके पर अलग से कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि यह नियंत्रण से बाहर है या इस समय कोई बड़ी चिंता की बात है।’
इससे पहले दिन में पीएनबी ने खुलासा किया कि उसने कुछ धोखाधड़ी वाले लेनदेन का पता लगाया है। ये लेनदेन 1.171 अरब डॉलर या करीब 11,334.4 करोड़ रुपये के हैं। वसूली के लिए यह मामला विधि प्रवर्तन एजेंसियों को भेज दिया गया है। बैंक ने कहा कि इन लेनदेन के आधार पर अन्य बैंकों ने संभवत: कुछ ग्राहकों को विदेशों में ऋण दिया है। इस मामले को पहले ही विधि प्रवर्तन एजेंसियों को भेज दिया गया है, जिससे दोषियों के खिलाफ कानून के हिसाब से कार्रवाई हो सके।
बैंक ने कहा कि वह स्वच्छ और पारदर्शी बैंकिंग को लेकर प्रतिबद्ध है। दस दिन से भी कम के समय में यह बैंक धोखाधड़ी का दूसरा मामला सामने आया है। इससे पहले पांच फरवरी को सीबीआई ने अरबपति हीरा कारोबारी नीरव मोदी, उनकी पत्नी, भाई और एक व्यापारिक भागीदार के खिलाफ वर्ष 2017 में पीएनबी के साथ 280.70 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था।
पीएनबी ने हालांकि इस फर्जीवाड़े में शामिल किसी शख्स का नाम नहीं लिया है, लेकिन कहा है कि उसने इसके बारे में जांच एजेंसियों को जानकारी दे दी है। बैंक ने बताया कि वह बाद में इस बात का आकलन करेगा कि क्या इन ट्रांजैक्शन से उसकी कोई देनदारी तो नहीं बनती है। इस जानकारी के बाद पीएनबी का शेयर तकरीबन 10 फीसदी से ज्यादा टूट गया है। वहीं इसका असर अन्य सरकारी बैंकों के शेयरों पर भी रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here