अगरतला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने त्रिपुरा चुनाव के मद्देनजर अगरतला के शांतिर बाजार में रैली की। पीएम ने न्यू इंडिया और न्यू त्रिपुरा जैसे काम करने के लिए लोगों से अपील करते हुए कहा कि इस बार चुनाव में कम्युनिस्ट पार्टी को हटाएं और बीजेपी को जिताकर विकास को बढ़ावा देने वाली सरकार बनाएं। पीएम ने कम्युनिस्ट पार्टी के वर्कर्स को अराजकतावादी बताते हुए कहा कि ये लोग चुनाव में अशांति फैलाने का प्रयास करेंगे, क्योंकि ये ‘गणतंत्र’ नहीं ‘गनतंत्र’ में विश्वास करते हैं। Premium audio quality with F3 Earphone! Ad: fiio india आपके बालों को नेचुरली दोबारा उगाने में आपकी मदद करता है Ad: regrow hair Recommended By Colombia टॉप कॉमेंट कामिऊणिस्टों का मंत्र है सत्ता को छिनना, चाहे कैसे भी हो. Shashi Kumar Bilga 7 | 0 | 3 चर्चित | आपत्तिजनक सभी कॉमेंट्स देखैं कॉमेंट लिखें पीएम ने कहा कि केंद्र सरकार यहां के गरीबों के घर बनाने, बिजली पहुंचाने, गैस का चूल्हा देने के लिए पैसे देती है लेकिन वह पैसा पता नहीं कहां चला जाता है। ये लोग (कम्युनिस्ट पार्टी) कांग्रेस के साथ मिलीभगत करके बैठे थे कि हमारा तो कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता है। उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस त्रिपुरा में चुनाव ही क्यों लड़ रही है? दिल्ली में दोस्ती और त्रिपुरा में विरोध का नाटक क्यों? हर जगह मिलकर लड़ते हैं और त्रिपुरा में चुनाव लड़ रहे हैं। यह तो सिर्फ वोट काटने की रणनीति है इसलिए कांग्रेस और वामदलों को अलग समझने की गलती मत करिेए।’ पीएम ने कहा, ‘आप लोग उनकी (कम्युनिस्टों की) ऐसी विदाई करो कि वे हर कोने से उखड़ जाएं। हर काम में कम्युनिस्ट पार्टी वाले हल्ला करते हैं, न्यूनतम मजदूरी का नाटक करते हैं। मैं आपसे पूछना चाहता हूं कि क्या कारण है कि त्रिपुरा में मजदूरों को न्यूनतम मजदूरी भी नहीं मिलती है? क्या कम्युनिस्ट पार्टी कभी न्यूनतम मजदूरी देगी? बीजेपी की सरकार बनते ही सबसे पहले यही काम किया जाएगा। देश में सातवां वेतन आयोग है और त्रिपुरा में चौथा। सरकारी कर्मचारियों को पैसा नहीं मिलेगा तो वह भ्रष्टाचार ही करेगा ना। हमारी सरकार बनते ही हम सातवां वेतन आयोग लागू करेंगे।’ पीएम मोदी ने कम्युनिस्ट पार्टी के लोगों को अराजकतावादी बताते हुए कहा कि ये लोग चुनाव में अशांति फैलाने का प्रयास करेंगे क्योंकि ये ‘गणतंत्र’ नहीं ‘गनतंत्र’ में विश्वास करते हैं।

0
311

पुंछ
भारतीय सेना के जवानों ने गुरुवार को जम्मू एवं कश्मीर के पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर घुसपैठ की एक कोशिश को नाकाम कर दिया। सुंजवान हमले के कुछ दिन बाद ही पाकिस्तान की ओर से हो रही इस साजिश नाकाम करते हुए सेना के जवानों द्वारा सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया है।
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पुंछ जिले से सटी एलओसी पर सेना के जवानों ने गुरुवार को संदिग्ध गतिविधि देखी थी। इस दौरान जांच में आतंकियों के एक दल को नियंत्रण रेखा के पास इंटरसेप्ट किया गया। इस पर सतर्क जवानों ने जब घुसपैठ की कोशिश कर रहे आतंकियों को ललकारा तो दूसरी ओर से फायरिंग शुरू कर दी गई। इस फायरिंग के जवाब में सेना ने भी जवाबी कार्रवाई की जिसके बाद आतंकियों की साजिश को नाकाम कर दिया गया। इसके बाद सेना के जवानों ने नियंत्रण रेखा के आसपास के इलाके में गहन तलाशी अभियान शुरू किया।
पाक ने नौशेरा सेक्टर में किया सीजफायर उल्लंघन
बता दें कि पाकिस्तानी सेना ने बुधवार को भी राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर संघर्षविराम का उल्लंघन किया था। बुधवार को पाक की ओर से शाम करीब सात बजे छोटे व स्वचालित हथियारों और मोर्टारों से सीजफायर का उल्लंघन किया गया था। पाक की ओर से सीजफायर उल्लंघन के बाद सेना के जवानों ने भी जवाबी कार्रवाई की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here