बिहार के 1,426 केंद्रों पर कड़ी सुरक्षा के बीच मैट्रिक परीक्षा शुरू

0
309

बुधवार से बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा आयोजित मैट्रिक परीक्षा शुरू हो रही है। इसके लिए पूरे बिहार में 1,426 केंद्र बनाए गए हैं।
पटना । बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की वार्षिक माध्यमिक परीक्षा (मैट्रिक) 2018 बुधवार से सूबे के 1,426 केंद्रों पर दो पालियों में आयोजित की जा रही है। इसके लिए पटना जिले में 74 केंद्र बनाए गए हैं। 17 लाख 70 हजार 42 परीक्षार्थियों को प्रवेश पत्र जारी किए गए हैं। प्रथम पाली में नौ लाख 289 और दूसरी पाली में आठ लाख 69 हजार 753 परीक्षार्थी हैं।
पहले दिन परीक्षा केंद्र पर 30 मिनट लेट (पहली पाली में सुबह 10:00 तथा दूसरी पाली में दोपहर 2:30 बजे) से पहुंचने पर भी विद्यार्थियों को परीक्षा में शामिल होने का अवसर मिलेगा। गुरुवार से निर्धारित समय से 10 मिनट पहले पहुंचने पर ही केंद्र में प्रवेश मिलेगा।
सड़क द़ुर्घटना में एक दर्जन परीक्षार्थी घायल
परीक्षा को लेकर परीक्षार्थी केंद्र पर पहुंचने लगे हैं। इस बीच नवादा से एक बड़ी खबर आ रही है जहां नवादा-जमुई पथ पर कादिरगंज ओपी के माया बिगहा गांव के समीप मैजिक वाहन पलटने से डेढ़ दर्जन लोग जख्मी हो गए हैं। घायलों में एक दर्जन मैट्रिक परीक्षार्थी भी शामिल हैं। वे सभी वारिसलीगंज के एसएन सिन्हा कॉलेज परीक्षा देने जा रहे थे। घायलों को इलाज के लिए सदर अस्पताल में दाखिल कराया गया है।
बिहार बोर्ड मैट्रिक परीक्षा की तिथि घोषित, जानिए पूरा कार्यक्रम
लखीसराय जिले के 19 परीक्षा केंद्रों पर मैट्रिक की परीक्षा कड़ी सुरक्षा के बीच बीच शुरू हुई। केंद्रों पर परीक्षार्थियों की गहन तलाशी लेकर प्रवेश कराया जा रहा है। प्रतिबंध के बावजूद काफी संख्या में छात्र जूता मौजा पहनकर केंद्र पर पहुंचे, जिसे खुलवाकर प्रवेश कराया गया।
बिहार बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर ने बताया कि निर्गत प्रवेश पत्र में अधिकतम आधे घंटे तक विलंब से आने पर परीक्षार्थियों को परीक्षा में बैठने की अनुमति अंकित किया गया था। इसमें संशोधन किया गया है। इसकी सूचना कई माध्यमों से परीक्षार्थियों को दी गई है। बावजूद इसके वेनीफिट ऑफ डाउट का लाभ पहले दिन विद्यार्थियों को मिलेगा।
बड़ी खबर: बढ़ायी गई तिथि, अब एक दिसंबर से शुरू होगी मैट्रिक की सेंट-अप परीक्षा
परीक्षा समाप्त होने तक किसी भी परीक्षार्थी को परीक्षा केंद्र से बाहर जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी। मैट्रिक परीक्षा में शामिल नेत्रहीन, दिव्यांग तथा वैसे परीक्षार्थी जो शारीरिक रूप से लिखने में अक्षम हैं, उन्हें जिला शिक्षा पदाधिकारी द्वारा नॉन माध्यमिक शैक्षणिक योग्यताधारी छात्र लेखक के रूप में उपलब्ध कराए जाएंगे। यदि किसी परीक्षार्थी को संशोधित प्रवेश पत्र नहीं मिला है तो वह पूर्व में जारी प्रवेश पत्र के आधार पर परीक्षा में शामिल हो सकता है।
सवा घंटे बाद जमा करनी होगी ओएमआर शीट
परीक्षार्थियों को वस्तुनिष्ठ प्रश्नों को हल कर ओएमआर शीट सवा घंटे बाद जमा कर देनी होगी। शुरुआती 15 मिनट प्रश्न पत्र को पढऩे के लिए परीक्षार्थियोंको अतिरिक्त दिए जाएंगे। प्रथम पाली में ओएमआर शीट सुबह 11:00 बजे तथा दूसरी पाली में अपराह्न 03:30 बजे जमा करनी होगी।
नए पैटर्न से होगी परीक्षा
इस बार की परीक्षा नए पैटर्न से ली जाएगी। प्रश्न पत्र और उत्तरपुस्तिका के पैटर्न में काफी बदलाव किए गए हैं। 50 फीसद प्रश्न बहुविकल्पीय वस्तुनिष्ठ होंगे। इनका जवाब ओएमआर शीट पर देना होगा। उत्तरपुस्तिका में भी बदलाव किया गया है। पहले कॉपी का मुख्य पृष्ठ (ओएमआर) दो भागों में बंटा होता था। इस बार यह तीन भागों में बंटा होगा। दाहिने और बाएं भाग को परीक्षार्थी दिए हुए निर्देश के अनुसार भरेंगे। मध्य भाग परीक्षकों के लिए निर्धारित है। ओएमआर शीट में किसी तरह से छेड़छाड़ करने वाले परीक्षार्थियों के रिजल्ट का प्रकाशन नहीं किया जाएगा। उत्तरपुस्तिका और ओएमआर शीट को पूरी तरह से पड़ताल के बाद ही छात्र कॉलम को भरेंगे।
ह्वाइटनर के उपयोग पर रद होगा परीक्षाफल
ओएमआर शीट पर ह्वाइटनर का उपयोग करने पर परीक्षाफल रद कर दिया जाएगा। ह्वाइटनर के कारण रद रिजल्ट में सुधार के लिए आपत्ति भी नहीं ली जाएगी। बोर्ड अध्यक्ष ने बताया कि ओएमआर शीट कंप्यूटर द्वारा स्कैन की जाएगी। इस कारण उससे किसी तरह का छेड़छाड़ नुकसानदायक होगी। इसकी जानकारी परीक्षा शुरू होने से पहले वीक्षक परीक्षार्थियों को देंगे। ओएमआर शीट को परीक्षार्थी प्रवेश पत्र में दर्ज सूचनाओं के आधार पर ही भरेंगे। ओएमआर शीट पर गोला नीला और काला बॉल पेन से भरा जाएगा। गोला को पेसिंल से भरने या सही का निशान लगाने पर मूल्यांकन नहीं किया जाएगा।
आज होगी अंग्रेजी की परीक्षा
बुधवार को अंग्रेजी (सामान्य) पेपर की परीक्षा होगी। पटना जिला में प्रथम पाली में 41, 562 तथा द्वितीय पाली में 41,004 विद्यार्थी परीक्षा में शामिल होंगे। अंग्रेजी में प्राप्तांक से श्रेणी का निर्धारण नहीं होगा, लेकिन इस पेपर की परीक्षा में उपस्थिति अनिवार्य है। इस विषय के प्राप्तांक अंक-पत्र में दर्ज किए जाएंगे।
200 मीटर की परिधि में निषेधाज्ञा
बोर्ड अध्यक्ष ने बताया कि परीक्षा केंद्र के 200 मीटर की परिधि में निषेधाज्ञा (धारा-144) प्रभावी रहेगा। संदिग्ध व्यक्ति को पुलिस गिरफ्तार भी कर सकती है। परीक्षा केंद्र में सभी विद्यार्थियों को पूरी तरह से जांच के बाद ही प्रवेश मिलेगा। भवन में भी वीक्षक पूरी जांच के बाद ही प्रश्न पत्र का वितरण करेंगे।
कंट्रोल रूम से होगी निगरानी
21 से 28 फरवरी तक 24 घंटे का कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है। परीक्षा से संबंधित शिकायत, समस्या, सुझाव या अन्य जानकारी कोई भी कंट्रोल से साझा कर सकते हैं। ईमेल (ceo.matricbseb@gmail.com), टेलीफोन नंबर 0612-2230051, 2221320 तथा फैक्स नंबर 0612-2222575 पर सूचना साझा की जा सकती है।
तीसरी आंख से रहेगी सब पर नजर
बोर्ड अध्यक्ष ने बताया कि केवल परीक्षार्थी ही जांच के दायरे में नहीं होंगे। परीक्षा से जुड़े सभी कर्मी, अधिकारी और परीक्षार्थियों की सतत निगरानी सीसीटीवी और वीडियो कैमरे से की जाएगी। सभी की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए प्रत्येक केंद्र पर कंट्रोल रूम होगा। निर्देश के विपरीत गतिविधियों पर नजर रखी जाएगी। वरीय पदाधिकारी भी सीसीटीवी और वीडियोग्राफी की जांच समय-समय पर करेंगे।
मोबाइल फोन के साथ पकड़े गए तो होंगे निलंबित
परीक्षा कक्ष में वीक्षक मोबाइल फोन के साथ पकड़े गए तो तत्काल निलंबित कर दिए जाएंगे। केंद्राधीक्षक के पास बिना कैमरायुक्त मोबाइल नहीं होगा। केंद्राधीक्षक के सहयोग के लिए शिक्षक, सुरक्षित वीक्षक या अन्य कर्मी उपस्थित रहेंगे। वे परीक्षा के दौरान अपने पास मोबाइल फोन नहीं रखेंगे। अपने निर्धारित स्थान से हटकर परीक्षा कक्ष में या अन्यत्र भ्रमण करते पकड़े गए तो कार्रवाई होगी।
बोर्ड अध्यक्ष ने बताया कि केंद्र के बाहर स्थित वाहनों की भी चेकिंग की जाएगी। परीक्षार्थियों को प्रवेश पत्र के अतिरिक्त परीक्षा कक्ष में कुछ भी नहीं लाने का निर्देश दिया गया है। इसका पालन नहीं करने वाले निष्कासित किए जाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here