Ind vs SA: महेंद्र सिंह धोनी की धुआंधार बल्लेबाजी पर वीरेंद्र सहवाग का कमेंट- हथियार चलाना नहीं भूले

0
150

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेले गए दूसरे टी-20 मैच में पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी अपनी पुरानी फॉर्म में नजर आए। बुधवार (21 फरवरी, 2018) को खेले गए मैच में उन्होंने अफ्रीकी तेज गेंदबाजों की धुनाई करते हुए महज 28 गेंदों में अर्धशतक ठोक दिया। अपनी पारी में धोनी ने चार चौके और तीन छक्के लगाए। जिससे टीम इंडिया का स्कोर चार विकेट के नुकसान पर 188 पर पहुंच गया। हालांकि भारतीय टीम ये मैच हार गई लेकिन धोनी की बल्लेबाजी की तारीफ सोशल मीडिया में जमकर हो रही है। धोनी से जुड़ा ऐसा ही एक ट्वीट टीम इंडिया के पूर्व खिलाड़ी वीरेंद्र सहवाग ने किया है। उन्होंने लिखा है, ‘आखिरी चार ओवर में 55 रन। हथियार चलाना नहीं भूले। स्पेशल बल्लेबाज के स्पेशल हिट, महेंद्र सिंह धोनी ग्रेट। पांडे ने भी बड़ी मेहनत की। 188 के स्कोर का बचाव करने के लिए टीम इंडिया के गेंदबाजों को शुभकामनाएं।’
बता दें कि मनीष पांडे (नाबाद 79) और महेंद्र सिंह धोनी (नाबाद 52) की अर्धशतकीय पारियों के दम पर भारतीय क्रिकेट टीम ने दक्षिण अफ्रीका को 189 रनों का लक्ष्य दिया था। जिसे कप्तान जीन पॉल ड्युम्नी (नाबाद 64) और मैन ऑफ द मैच रहे हेनरिक क्लासेन (69) की शानदार बल्लेबाजी के दम पर दक्षिण अफ्रीका ने भारत को छह विकेट से हरा दिया। सुपरस्पोर्ट पार्क में खेले गए इस मैच में जीत हासिल करने के साथ ही दक्षिण अफ्रीका ने तीन टी-20 मैचों की सीरीज को 1-1 से बराबर कर दिया है। इससे पहले लक्ष्य का पीछा करने उतरी दक्षिण अफ्रीका के लिए जेजे स्मट्स (2) और सलामी बल्लेबाज रीजा हैंड्रिक्स (26) ने 24 रन ही जोड़े थे कि जयदेव उनादकट ने स्मट्स को सुरेश रैना के हाथों कैच आउट करवाकर पवेलियन का रास्ता दिखाया।
मेजबान टीम इसके बाद 14 रन ही जोड़ पाई थी कि जसप्रीत बुमराह के स्थान पर टीम में शामिल हुए शार्दुल ठाकुर ने हैंड्रिक्स को पवेलियन का रास्ता दिखाया। पिछले टी-20 मैच में दक्षिण अफ्रीका के लिए सबसे अधिक रन बनाने वाले हैंड्रिक्स लंबा शॉट मारने के कोशिश में बाउंड्री के पास खड़े हार्दिक पांड्या के हाथों लपके गए। इसके बाद हेनरिक क्लासेन और ड्युम्नी ने टीम की पारी को संभाला। दोनों ने तीसरे विकेट के लिए 93 रनों की शानदार साझेदारी कर टीम को 131 के स्कोर तक पहुंचाया। 12वें ओवर की दूसरी गेंद पर चौका जड़ने के साथ ही क्लासेन ने अपने टी-20 करियर का पहला अर्धशतक पूरा किया।
वहीं पहले बल्लेबाजी कर रही भारतीय टीम ने 45 के स्कोर पर अपने तीन विकेट गंवा दिए थे। ऐसे में पांडे उम्मीद की किरण बनकर मैदान पर उतरे। उन्होंने मंझी हुई बल्लेबाजी के दम पर रैना के साथ चौथे विकेट के लिए 45 रनों की साझेदारी की और टीम को 90 के स्कोर तक पहुंचाया। हालांकि, यहां अपनी लय तलाश रहे रैना को अंदिले फेहुलकवायो ने 90 के स्कोर पर ही पगबाधा आउट कर भारत का चौथा विकेट भी गिरा दिया। पांडे ने इस बीच, 15वें ओवर की आखिरी गेंद पर एक रन लेने के साथ ही अपने टी-20 करियर का दूसरा अर्धशतक लगाया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here