रेलवे के ग्रुप डी पदों पर ITI की अनिवार्यता खत्म, 4 साल बाद 89409 पदों पर बहाली

0
1534

पटना.रेलवे ने ग्रुप डी (श्रेणी-1) के पदों के लिए अपनी शर्तों में छूट दी है। आईटीआई की अनिवार्यता खत्म कर इसे वैकल्पिक कर दिया गया है। अब 10वीं पास भी इसके लिए आवेदन कर सकेंगे। यानी पिछले साल की तरह व्यवस्था लागू कर दी गई है। श्रेणी-1 के पदों में पोर्टर, गेटमेन, हेल्पर शामिल हैं। हाल में रेलवे ने भर्ती विज्ञापन में श्रेणी-1 के लिए 10वीं और आईटीआई की न्यूनतम योग्यता तय की थी। रेलवे में श्रेणी-1 और श्रेणी-2 में 89,409 पदों पर भर्ती की जा रही है। यह बहाली 4 साल बाद हो रही है। गुरुवार को रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट कर आईटीआई की अनिवार्यता खत्म करने की जानकारी दी।
उम्र सीमा में 2 साल की छूट व बढ़ा शुल्क वापसी का पहले ही फैसला
रेलवे ने इस परीक्षा को लेकर पिछले 4 दिनों में तीन नियम बदले हैं। 19 फरवरी को उम्रसीमा में 2 साल की छूट, 21 को परीक्षा में शामिल होने पर बढ़ा शुल्क वापसी का ऐलान हुआ था। अब 22 फरवरी को आईटीआई की अनिवार्यता खत्म की गई। गुरुवार देर शाम अधिसूचना जारी की गई।
रेलमंत्री ने कहा- हमने बदलाव के लिए छात्रों को वक्त नहीं दिया
रेलमंत्री ने कहा-हमें लगा कि हमने उम्मीदवारों को जुलाई 2017 में योग्यता मानदंड बदलने के बाद तैयारी के लिए पूरा समय नहीं दिया। बहुत से युवा लंबे समय से तैयारी कर रहे थे। उनके साथ यह नाइंसाफी होता। इसलिए इसमें छूट दी गई है। हमारे पास प्रशिक्षण का विस्तृत कार्यक्रम है, जिससे हम युवाओं को प्रशिक्षित कर सकते हैं। आईटीआई की अनिवार्यता खत्म करने को लेकर पिछले कई दिनों से राज्य के विभिन्न हिस्सों में हंगामा मचा था।
बिहार के लाखों युवाओं को परीक्षा में शामिल होने का मौका मिलेगा
रेलमंत्री से बात कर हमने ग्रुप डी के 62900 पदों के लिए मैट्रिक के साथ आईटीआई की अनिवार्यता को खत्म करने का आग्रह किया था। आयुसीमा में भी छूट की बात कही थी। यह दोनों काम हुआ। इससे बिहार के लाखों युवकों को परीक्षा देने का मौका मिलेगा। -सुशील मोदी, उपमुख्यमंत्री

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here