अन्ना हजारे ने कहा, मैं मंदिर में रहता हूं और खाने के लिये है बस एक थाली

0
248

अन्ना हजारे ने कहा कि 25 साल की उम्र से ले कर अब तक सेवा कर रहा हूं। मंदिर में रहता हूं और मेरे पास खाने के लिए थाली है। मुझे करोड़ो रूपये का पुरस्कार मिला लेकिन सब ट्रस्ट को दे दि

लखनऊ (जेएनएन)। भारत का संविधान 26 जनवरी, 1950 में लागू होने के साथ ही देश के हर नागरिक को अपनी आवाज उठाने का हक मिल गया। राजनीतिक दल बनाकर लोकतंत्र को खत्म कर भीड़तंत्र के रूप में पार्टियों का गठन हो गया। इसी के साथ ही लोकतंत्र खत्म हो गया। ऐसे में अब युवाओं को जरूरत है कि वे आएं और इसे बचाने की मुहिम को आगे बढ़ाएं। सोमवार को समाजसेवी पद्म विभूषण अन्ना हजारे कानून के विद्यार्थियों को संबोधित कर रहे थे।
लोकतंत्र मुक्ति आंदोलन की ओर से डॉ.राम मनोहर लोहिया राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय में आयोजित इस ‘लोकतंत्र की पाठशाला में अन्ना हजारे ने कहा कि 1952 में पार्टी के बैनर तले हुए चुनाव के साथ ही लोकतंत्र की कमजोरी शुरू हुई और अभी तक जारी है। किसानों को लागत के अनुसार मूल्य देने, चुनाव सुधार करने, लोकपाल बिल को लागू कर भ्रष्टाचार मुक्त समाज बनाने के लिए 23 मार्च से दिल्ली में अनशन शुरू होगा।
उन्होंने विधि के छात्रों से कहा कि आप बुद्धिजीवी लोग हैं। पांच सिद्धांतों को जीवन में उतार लो तो आपको सब कुछ मिल जाएगा। आचरण सही रखो, विचार सही रखो, जीवन को निष्कलंकित रखो और त्याग की भावना रखो, आपको सबकुछ मिल जाएगा। सरदार भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, डॉ.भीमराव अंबेडकर ने जो बीज बोया था, उसी के चलते हम उन्हें अमर किए हुए हैं।
किसी के खाते में नहीं आया पैसा : अन्ना हजारे ने एक जनसभा में कहा कि कांग्रेस ने आंदोलन के बाद लोकपाल बिल को कमजोर किया और अब मोदी की सरकार भी इसे कमजोर कर रही है। कालाधन वापस लाकर सभी के खाते में 15 लाख भेजने का वादा कर वोट तो ले लिया, लेकिन खाते में 15 रुपये भी नहीं आए। अरविंद केजरीवाल कैसा काम कर रहा है, इसके बारे में मुझे बताने की जरूरत नहीं है। आप सब लोग जानते हैं, लेकिन मेरी उनके उस समय ही बातचीत बंद हो गई जब उन्होंने पार्टी बनाकर चुनाव में हिस्सा ले लिया। अन्ना हजारे ने कहा कि प्रदेश में आयोजित इंवेस्टर्स समिट से व्यापारियों का फायदा होगा, लेकिन किसानों को कोई फायदा नहीं मिलने वाला।
गिरी टेंट की सीलिंग : अन्ना हजारे की सभा से पहले टेंट की सीलिंग गिरने से परिसर अफरातफरी मच गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here