लालू को मिला मांझी का साथ, राजनीति गरमाई …जानिए किसने क्‍या कहा

0
106

बिहार की राजनीति ने फिर करवट बदली है। अब जीतनराम मांझी राजग का हिस्‍सा नहीं रहे। उनके महागठबंधन में जाने पर बयानों का सिलसिला तेज है। डालते हैं एक नजर।
पटना । राजग के घटक दल (हिंदुस्‍तानी अवाम मोर्चा) ‘हम’ के सुप्रीमो जीतनराम मांझी से राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्‍वी यादव व तेजप्रताप यादव ने मुलाकात की। इसके बाद मांझी ने महागठबंधन में जाने की घोषणा कर दी है। इस घटना से बिहार की राजनीति गरमा गई है। पक्ष-विपक्ष के बयानों का सिलसिला तेज है। डालते हैं एक नजर।
मुलाकात के बाद मीडिया से मुखातिब मांझी ने कहा कि वे अब महागठबंधन में जा रहे हैं। अपने संक्षिप्‍त बयान में उन्‍होंने कहा कि अब वे राजग में नहीं रहे। इस संबंध में हिंदुस्‍तानी अवाम मोर्चा के प्रवक्‍ता दानिश रिजवान ने कहा कि ‘हम’ के महागठबंधन में शामिल होने की औपचारिक घोषणा रात आठ बजे कर दी जाएगी। इसकी पुष्टि तेजस्‍वी यादव व तेजप्रताप यादव ने कर दी है।
मांझी कर घोषणा पर प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा नेता व सूबे के पर्यटन मंत्री प्रमोद कुमार ने कहा कि भाजपा व राजग एक समंदर है, जिसमें कोई आए-जाए, अंतर पड़ने वाला नहीं है। एकमात्र नरेंद्र मोदी व अमित शाहइ के नेतृत्‍व में हम अगला लोकसभा चुनाव भी जीतेंगे।
जदयू नेता केसी त्‍यागी ने कहा कि राजद का नेतृत्‍व हताशा और निराशा के दौर से गुजर रहा है। उसे किसी न किसी तरह से ऑक्‍सीजन की जरूरत है। मांझी कॉमन मिनिमम एजेंडा देख चुके हैं। वे लालू यादव और नीतीश कुमार दोनों के साथ रहा चुके हैं। उन्‍हें मालूम है कि राजनीति की धार किस ओर है। जदयू प्रवक्‍ता अजय आलोक ने कहा कि मांझी के महागठबंधन में जाने से कोई दिक्‍कत नहीं है।
उधर, राजद प्रवक्‍ता मनोज झा ने कहा क‍ि जिस तरह से जनादेश की डकैती हुई, उससे जनता में नाराजगी है।
वहीं, जदयू प्रवक्‍ता संजय सिंह ने कहा कि जिस मांझी को नीतीश कुमार ने मुख्‍यमंत्री बनाया, जब वे उनके न हुए तो दूसरे के क्‍या होंगे। उनके जाने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here