MP के बाद अब हरियाणा में भी सख्त कानूनः12 साल तक की बच्चियों से रेप पर फांसी

0
212

चंडीगढ़। मध्यप्रदेश की तरह हरियाणा सरकार ने भी नाबालिग से दुष्कर्म पर फांसी जैसे कड़े कानून का प्रावधान किया है। बच्चियों के खिलाफ अपराध की सजा और कठोर करने के प्रस्ताव पर मंगलवार को मीटिंग में कैबिनेट ने मुहर लगा दी। अब प्रदेश में 12 साल तक की बच्ची के रेपिस्ट को कम से कम 14 वर्ष का कठोर कारावास या मौत की सजा होगी।
– इसके अलावा गैंगरेप पर कम से कम 20 वर्ष कठोर कारावास की सजा का प्रावधान भी किया गया है।
– बच्चियों से छेड़छाड़ और उनका पीछा करने की सजा भी बढ़ा दी गई है। आईपीसी की धारा 376ए, 376डी, 354, 354डी(2) जैसे कानूनों में संशोधन करने का निर्णय लिया गया है।
– राज्य भर में पिछले दिनों में एक हफ्ते में सामने आईं रेप की कई घटनाओं से सरकार चौतरफा दबाव में थी। तभी सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कड़े प्रावधान की घोषणा की थी।
जानिए किस अपराध में बढ़ी कितनी सजा
– आईपीसी की धारा 376 (एए): के तहत जोड़ी गई धारा के अनुसार, जो कोई भी 12 साल तक की उम्र की बच्ची से बलात्कार करता है, उसे मृत्यु या 14 वर्ष तक के सश्रम कारावास की सजा हो सकती है। दोषी के प्राकृतिक जीवन की शेष अवधि के लिए कारावास तक बढ़ाया जा सकता है और जुर्माना लगाया जा सकता है।
– आईपीसी की धारा 376 (डीए): के तहत भी एक नया प्रावधान किया गया है। यदि 12 साल की उम्र तक की लड़की से गैंगरेप किया जाता है तो सभी आरोपी रेप के दोषी माने जाएंगे। सभी दोषियों को मौत की सजा या कम से कम 20 वर्ष के सश्रम कारावास की सजा दी जाएगी। जुर्माने के साथ उसकी सजा भी बढ़ाई जा सकती है। जुर्माना पीड़िता को ही दिया जाएगा। उसके मेडिकल पर आए खर्च और पुनर्वास की व्यवस्था भी की जाएगी।
– आईपीसी की धारा-354: के तहत यदि कोई किसी महिला के साथ छेड़छाड़ करता है। रेप का प्रयास करता है तो उसे सात साल की सजा होगी। पहले यह दो साल की सजा थी। इसके साथ ही जुर्माना भी लगाया जा सकता है।
– आईपीसी की धारा 354 डी (2): के तहत यदि कोई व्यक्ति महिला का पीछा करता है। पहली बार ऐसा करने पर तीन साल की सजा और जुर्माना होगा। यदि दोबारा भी ऐसा करता है तो सजा सात साल तक बढ़ाई जा सकती है। जुर्माना भी लगेगा।
5 सालों में 12 साल से कम उम्र की 377 बच्चियों से हुआ रेप
– हरियाणा में पांच सालों में 12 साल से कम उम्र की 375 से ज्यादा बेटियों के साथ रेप हुआ है। 2016 में 114 बेटियों के साथ रेप किया गया। जबकि 2015 में 47, 2014 में 63, 2013 में 80 और 2012 में 73 बेटियां शिकार बनीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here