त्रिपुरा में ‘कमल’ खिलते ही शुरु हुई हिंसा, तोड़ी गई सबसे पुरानी मूर्ति

0
163

अगरतलाः पूर्वोत्तर के तीनों राज्यों त्रिपुरा, मेघालय और नागालैंड में बीजेपी की जीत के बाद से 13 जिलों में हिंसा की खबरें सामने आई हैं। त्रिपुरा में बोलानिया में बुलडोजर की मदद से रुसी क्रांति के नायक व्लादिमिर लेनिन की मूर्ति को गिरा दिया गया है। बताया जा रहाहै कि व्लादिमिर की मूर्ति को गिराने के दौरान लोगों ने भारत माता की जय के नारे लगाए। यह घटना कल यानी सोमवार दोपहर की बताई जा रही है। बताया जा रहा है कि इस घटना को बीजेपी के ही समर्थकों ने अंजाम दिया।
सीपीएम का आरोप है कि बीजेपी और IPFT के कार्यकर्ता हिंसा कर रहे हैं। सीपीएम का कहना है कि बीजेपी और IPFT कार्यकर्ता न सिर्फ वामपंथी पार्टी के दफ़्तरों को निशाना बना रहे हैं बल्कि उनके कार्यकर्ताओं पर भी हमले किए जा रहे हैं। इधर ख़बर ये भी है कि लेफ़्ट पार्टी के कार्यकर्ता भी हमलों में शामिल हैं। सोमवार को भी दो जगहों से हिंसा की ख़बर है जिसमें 3 लोगों को गिरफ़्तार किया गया है। कई थाना क्षेत्रों में धारा 144 भी लगाई गई है।
व्लादिमीर लेनिन की मूर्ति गिराने के मामले में बुलडोज़र के ड्राइवर को गिरफ़्तार कर लिया गया है और बुलडोज़र को भी सीज़ कर लिया गया है। एक न्यूज चैनल के अनुसार त्रिपुरा के एसपी कमल चक्रवर्ती (पुलिस कंट्रोल) ने जानकारी दी कि सोमवार दोपहर क़रीब 3.30 बजे बीजेपी समर्थकों ने बुलडोज़र की मदद से चौराहे पर लगी लेनिन की मूर्ति ढहा दी। एसपी के मुताबिक बीजेपी समर्थकों ने बुलडोज़र ड्राइवर को शराब पिलाकर इस घटना को अंजाम दिया। फ़िलहाल पुलिस ने ड्राइवर को गिरफ़्तार कर लिया है और बुलडोजर को सीज़ कर दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here