आंध्र विवाद: राहुल बोले- सत्ता में आने पर देंगे विशेष राज्य का दर्जा

0
286

आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग को लेकर एनडीए में दरार आ गई है। इस मुद्दे पर केंद्र सरकार से नाराज तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) के दो मंत्रियों के इस्तीफा देने से पहले ही राज्य सरकार में बीजेपी कोटे के मंत्रियों ने पद से इस्तीफा दे दिया है। बताया जा रहा है कि कुछ ही देर में मोदी कैबिनेट में शामिल टीडीपी के दोनों मंत्री भी इस्तीफा दे सकते हैं। वाईएसआर कांग्रेस के प्रमुख वाई.एस.जगनमोहन रेड्डी ने गुरुवार को कहा कि हम उस पार्टी का समर्थन करेंगे, जो आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने का वादा करेगी। रेड्डी ने प्रकासम जिले में बताया, “जो भी आंध्र प्रदेश को विशेष दर्जा देने संबंधी फाइल पर हस्ताक्षर करेगा, हम उसका समर्थन करेंगे।”उन्होंने कहा कि कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) दोनें ने आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दजार् देने का झूठा वादा कर धोखा दिया है। इसी बीच, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि यदि उनकी पार्टी सत्ता में आती है तो वह आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देगी।इससे पहले टीडीपी प्रमुख और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने बुधवार देर रात प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा था कि केंद्र सरकार ने आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने का वादा नहीं निभाया है। चंद्रबाबू ने कहा, हम सरकार का हिस्सा यह सोचकर बने थे आंध्र प्रदेश के साथ न्याय होगा। हालांकि टीडीपी ने अभी एनडीए से अलग होने का एलान नहीं किया है। केंद्र सरकार में टीडीपी के अशोक गजपति राजू कैबिनेट मंत्री और वाईएस चौधरी राज्यमंत्री हैं। उधर,आंध्र प्रदेश की सरकार में शामिल भाजपा के दो मंत्रियों ने भी इस्तीफा देने का फैसला किया है।
टीडीपी को साधने के लिए सरकारी स्तर पर चल रहे प्रयासों के बीच भाजपा ने दो टूक कहा कि वह संसद में उसके हंगामे को और ज्यादा बर्दाश्त नहीं करेगी। टीडीपी पहले यह तय करे कि भाजपा के साथ रहना है या नहीं। भाजपा का कहना है कि साथ में रहना है तो उनकी मांगों पर रास्ता निकाला जा सकता है। लेकिन विशेष राज्य का दर्जा संभव नहीं है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने टीडीपी की मांगों पर स्थिति साफ कर दी है। बता दें कि आंध्र प्रदेश की राजनीति में भाजपा-टीडीपी के बीच टकराव बढ़ रहा है। टीडीपी सांसद दोनों सदनों को बाधित कर रहे हैं। गेंद टीडीपी के पाले में : भाजपा नेतृत्व ने टीडीपी से कहा कि उसे साथ रहना है तो दूसरे रास्तों से समस्या का हल निकाला जा सकता है, लेकिन साथ में रहते हुए संसद में हंगामा बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। अब गेंद टीडीपी के पाले में है। विकल्प के तौर पर भाजपा के संपर्क में जगन मोहन के नेतृत्व वाली वाईएसआर कांग्रेस व पवन कल्याण के नेतृत्व वाला दल है।
पीएम से मिल चुके हैं चंद्रबाबू : सूत्रों के अनुसार प्रधानमंत्री की भी टीडीपी नेता चंद्रबाबू नायडू से पहले चर्चा हो चुकी है। टीडीपी सांसदों ने मंगलवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली से मुलाकात कर अपनी मांगे रखी थी, जिसमें उन्होंने स्थिति साफ कर दी थी।जेटली ने गिनाई यह वजह : जेटली ने कहा कि नए राज्य के गठन के समय विशेष राज्य का दर्जा देने की श्रेणी शामिल थी, लेकिन 14 वें वित्त आयोग में उसे केवल पहाड़ी व पूर्वोत्तर राज्यों तक सीमित कर दिया गया है। ऐसे में विशेष राज्य का दर्जा देना संभव नहीं है। हालांकि केंद्र उसे विशेष राज्यों के समकक्ष वित्तीय मदद देने को तैयार है। जेटली ने कहा कि राज्य के विभाजन के समय केंद्र सरकार ने जो वादे किए थे उन्हें पूरा किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.